दिल्ली में चरमपंथी हमले की चेतावनी

Image caption राष्ट्रमंडल खेलों के मद्देनज़र भी दिल्ली में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी की जा रही है

अमरीका ने भारत की राजधानी दिल्ली के भीड़भाड़ वाले इलाक़ों में चरमपंथी हमले की आशंका जताई है और अपने नागरिकों को सचेत रहने को कहा है.

शनिवार को जारी सलाह में अमरीका ने अपने नागरिकों को दिल्ली के कनॉट प्लेस, चांदनी चौक, ग्रेटर कैलाश, करोलबाग़ जैसे इलाकों में जाने से बचने की सलाह दी है.

अमरीका ने कहा है कि ये भीड़भाड़ वाले इलाक़े चरमपंथियों के पसंदीदा लक्ष्य हो सकते हैं.

उधर दिल्ली पुलिस ने कहा है कि वह इस चेतावनी को ध्यान में रखते हुए अतिरिक्त सतर्कता बरत रही है.

चेतावनी

अमरीका ने अपनी चेतावनी में कहा है, "लगातार संकेत मिल रहे हैं कि आतंकवादी दिल्ली में कई स्थानों पर हमला करने की योजना बना रहे हैं."

इसमें कहा गया है कि आतंकवादियों ने पहले भी यह दिखाया है कि वे ऐसे स्थानों पर हमला करना चाहते हैं जहाँ अमरीकी या दूसरे पश्चिमी देशों के नागरिक इकट्ठे होते हों या यात्राएँ करते हों.

सलाह में कहा गया है, "चांदनी चौक, कनॉट प्लेस, ग्रेटर कैलाश, करोल बाग़, महरौली और सरोजनी नगर जैसी जगहें चरमपंथियों के निशाने पर हो सकती हैं."

अमरीकी नागरिकों से कहा गया है कि अगर वो किसी ऐसे स्थान पर हों जहाँ पर कोई लावारिस वस्तु पड़ी हो तो उन्हें फौरन वो जगह छोड़ देनी चाहिए और इसकी जानकारी अधिकारियों को देनी चाहिए.

अमरीका ने अपने नागरिकों से कहा है कि अपनी सुरक्षा का ध्यान रखना और परिस्थितियों पर नज़र रखना हमेशा अच्छा होता है.

नवंबर 2008 में मुंबई पर हुए चरमपंथी हमले के बाद से ही अमरीका समय-समय पर अपने नागरिकों को इस तरह की सलाह जारी करता रहा है.

ग़ौरतलब है कि चरमपंथी हमले की आशंकाओं के मद्देनज़र गुरुवार को कोलकाता में भी सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई थी. कोलकाता के संयुक्त पुलिस आयुक्त जावेद शमीम का कहना था कि पुलिस को विश्वसनीय सूत्रों से सूचना मिली है कि चरमपंथी संगठन इंडियन मुजाहिद्दीन शहर में हमले करने की योजना बना रहा है.

संबंधित समाचार