मिस इंडिया के ननिहाल, ददिहाल में ख़ुशी की लहर

पेंटालून मिस इंडिया वर्ल्ड-2010, मनस्वी ममगई
Image caption मनस्वी ने मिस इंडिया बनने की ठान ली थी

जैसे ही पेंटालूंस मिस इंडिया वर्ल्ड-2010 का ताज मनस्वी ममगई के सिर सजा तो नैनीताल में रह रही 65 वर्ष की पुष्पा नैलवाल की आँखे खुशी से छलक उठीं.

पुष्पा नैलवाल मनस्वी की नानी हैं. आंखों से छलकते आंसू को संभाल कर वे खुशी से कहती हैं, “मनस्वी का सपना पूरा हो गया. वो तो बचपन से ही मिस इंडिया बनना चाहती थी.”

उसके नाना चंद्रशेखर नैलवाल गर्व से एक फ़ैशन शो में खींची गई मनस्वी की फोटो दिखाते हैं.

उन्हें पूरा भरोसा है कि मनस्वी जहां भी जाएगी जो भी करेगी उसमें वे ज़रूर कामयाब होगी. वो कहते हैं, “अब वो दिन दूर नहीं कि मिस वर्ल्ड का खिताब भी उसके नाम होगा.” नानी को इंतजार है कि उनकी लाडली नातिन घर आए तो उसे चिलक्वाणी खिलाएं. चिलक्वाणी एक पहाड़ी व्यंजन है जो सोयाबीन की दाल को पीस कर बनाया जाता है.

पुष्पा नैलवाल कहती हैं, “चाहे वो कहीं भी घूमकर आए और कुछ भी खाकर क्यों न आए मनस्वी चिलक्वाणी कभी छोड़ नहीं सकती. पहाड़ी भोजन उसे पसंद है.”

मनस्वी के नाना-नानी नैनीताल में रहते हैं तो ददिहाल हलद्वानी में है. उनका घर भी बधाई देनेवालों से गुलज़ार है और रातों-रात परिवार को मिली इस प्रसिद्धि से वो फूले नहीं समा रहे हैं. सबका कहना है कि मनस्वी ने उनका मान बढ़ाया है. इतनी बड़ी प्रतियोगिता जीतकर नाम रोशन किया है. उसकी बुआ देवकी कहती हैं, “मनस्वी बेहद प्रतिभाशाली है और 14 वर्ष की उम्र में ही उसने कई प्रतियोगिताएं जीत ली थीं.”

सपना बना हक़ीकत

मनस्वी एक साधारण परिवार से आती है. उसके माता-पिता दोनों ही मूल रूप से उत्तराखंड के रहनेवाले हैं लेकिन मनस्वी का जन्म और पालन-पोषण दिल्ली और चंडीगढ़ में हुआ. पिता इंजीनियर हैं और मां शिक्षाविद् रही हैं.

Image caption मनस्वी की नानी पुष्पा नैलवाल के घर ख़ुशी का माहौल.

मनस्वी की माँ प्रभा नैलवाल को बेटी की इस उपलब्धि पर गर्व है. उन्होंने मुंबई से फ़ोन पर बताया,“मनस्वी की दिली तमन्ना थी कि वो मिस इंडिया बने और उसने ये कर दिखाया है. किसी मां को इससे ज़्यादा और क्या चाहिए कि उसके जीते-जी उसके बच्चे का का सपना पूरा हो जाए.”

उनका कहना है, “जब ऐश्वर्या राय ने मिस वर्ल्ड जीता तभी मनस्वी ने भी कह दिया था कि उसे भी एक दिन ये क्राउन पहनना है.”

मनस्वी पढ़ाई में भी अच्छी रही हैं लेकिन उसका लक्ष्य मॉडलिंग ही है. तीन साल पहले उसका चयन इंजीनियरिंग में हुआ लेकिन उन्होंने मॉडलिंग को ही अपना करियर चुना.

प्रभा नैलवाल का कहना है कि मनस्वी का नैनीताल और भीमताल दोनों ही जगहों से गहरा लगाव है और हर साल दो महीने वो यहां ज़रूर रहने आती हैं. मनस्वी को स्केटिंग और नृत्य का शौक है.

नैनीताल में मानो हर कोई ये बताने पर तुला है कि उसने इस पहाड़ी बाला को देखा है और वो कितनी सुंदर और साथ ही कितनी साधारण भी है.

मनस्वी ममगई के मिस इंडिया बनने पर कहें तो पूरे उत्तराखंड में खुशी की लहर है.

इसे देश के फ़ैशन और ग्लैमर जगत में पहाड़ी सौंदर्य की बढ़ती दस्तक के तौर पर भी देखा जा रहा है. वर्ष 2005 में देहरादून की निहारिका सिंह ने फेमिना मिस इंडिया अर्थ का खिताब जीता था.

संबंधित समाचार