रेड्डी बंधु कर सकेंगे खनन शुरू

Image caption अब अविवादित क्षेत्रों में खनन शुरू हो सकता है.

भारतीय सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक और आंध्रप्रदेश की सीमा के पास रेड्डी बंधुओं के उन खानों में खनन की अनुमति दे दी है जो अविवादित क्षेत्र में है.

इस फ़ैसले के बाद रेड्डी बंधुओं की ओबालापुरम कंपनी इन खानों में काम शुरू कर सकती है लेकिन कर्नाटक की सीमा के 150 मीटर क्षेत्र के बाहर.

जनार्दन और करूनाकरन रेड्डी कर्नाटक की भारतीय जनता पार्टी सरकार में मंत्री हैं.

उनके इन खानों में पांच महीने पहले काम बंद कर दिया गया था जब आंध्र प्रदेश सरकार ने उनपर संरक्षित वन्य क्षेत्र में अवैध खनन करने का आरोप लगाते हुए मुकदमा दायर कर दिया.

सुप्रीम कोर्ट ने एक समिति बनाकर इन आरोपों के अलावा अतिक्रमण के आदेश की जांच करने का आदेश दिया.

सुप्रीम कोर्ट ने एक विस्तृत सर्वेक्षण का आदेश दिया जिसमें छह खानों की जांच करके ये देखा जाना था कि क्या इनके मालिकों ने जानबूझकर वहां की सीमाओं का उल्लंघन किया. इनमें से तीन खानों के मालिक रेड्डी बंधु हैं.

सर्वेक्षण के नतीजे़ आने के बाद पूर्ण फैसला सुनाया जाएगा।

सुप्रीम कोर्ट की तरफ़ से गठित समिति ने सुझाव दिया था कि जबतक पूरा मामला स्पष्ट नहीं हो जाए खनन का काम पूरी तरह रोक दिया जाए.

रेड्डी बंधुओं ने इसके ख़िलाफ़ अपील करते हुए कहा था कि पूरी सुनवाई में लंबा समय लगेगा इसलिए जो क्षेत्र विवादित नहीं हैं वहां काम चलने दिया जाए.

संबंधित समाचार