माओवादियों ने 'रेल सुरक्षा' का वादा किया

Image caption रेल दुर्घटना के पीछे माओवादियों का हाथ माना जा रहा है

माओवादियों के एक वरिष्ठ नेता ने मंगलवार को कहा कि उनके नियंत्रण वाले इलाक़ों से गुजरने वाली सभी रेलों को सुरक्षा दी जाएगी.

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) के प्रवक्ता कामरेड आकाश ने बीबीसी को फोन पर बताया कि वो भारतीय रेलवे से अपील करते हैं कि वो बिना किसी डर के सभी ट्रेनों को रात में चलाएँ.

उनका कहना था,''हम मालगाड़ी और यात्री गाड़ियों को पूरी सुरक्षा की गारंटी देते हैं. हम देशभर में किसी को भी किसी ट्रेन पर हमला करने की अनुमति नहीं देंगे. और जो ऐसा करने की कोशिश करेंगे, उन्हें कड़ी सज़ा दी जाएगी.''

माओवादी शुक्रवार की रेल दुर्घटना के पीछे हाथ होने से इनकार करते हैं. इसमें लगभग 150 यात्रियों की मौत हो गई थी.

माओवादियों ने इसके लिए ज़िम्मेदार लोगों, भले ही वो उनके नजदीकी हों, सज़ा देने की घोषणा की थी.

पुलिस का आरोप

इसका मतलब है कि पुलिस के इस दावे में सार है कि माओवादियों के नजदीकी लोगों ने तोड़फोड़ की जिसकी वजह से दुर्घटना हुई.

पश्चिम बंगाल के पुलिस प्रमुख भूपिंदर सिंह का कहना है कि माओवादियों के नजदीकी लोग इस तोड़फोड़ के लिए ज़िम्मेदार हैं.

रेल अधिकारियों का कहना है कि पटरियों को जोड़ने वाली क्लिप गायब थी जिसकी वजह से ज्ञानेश्वरी एक्सप्रेस पटरी से उतर गई और उससे मालगाड़ी जा टकराई.

पश्चिम बंगाल पुलिस प्रमुख ने इस तोड़फोड़ के लिए पीपुल्स कमेटी फोर प्रवेंशन ऑफ़ एट्रोसिटीज़ (पीसीपीए) के दो स्थानीय नेताओं उमाकांत महतो और बापी महतो को प्रमुख संदिग्ध बताया है.

लेकिन रिकॉर्ड से पता चला है कि उन्हें 'रहस्यमय ढंग' से रिहा कर दिया गया था.

संबंधित समाचार