राज्य पुलिसकर्मियों की भर्ती बढ़ाएँ: चिदंबरम

Image caption चिदंबरम का कहना था कि प्रशिक्षण क्षमता न होने से भर्ती की संख्या सीमित रखनी पड़ती है

गृह मंत्री पी चिदंबरम ने नक्सल प्रभावित राज्यों से कहा है कि वे पुलिस प्रशिक्षण संस्थानों और पुलिस की भर्ती दोगुनी कर दें.

नक्सल प्रभावित राज्य छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में अखिल भारतीय पुलिस विज्ञान कांग्रेस का उदघाटन करते हुए उन्होंने कहा,'' अधिकतर राज्यों के पास नए कांस्टेबिल को प्रशिक्षित करने की पर्याप्त क्षमता नहीं है.''

उनका कहना था कि ऐसा पाया गया है कि पर्याप्त प्रशिक्षण क्षमता न होने से भर्ती की संख्या सीमित रखनी पड़ती है.

चिदंबरम ने कहा,'' इसलिए सबसे पहले प्रशिक्षण संस्थानों की क्षमता बढ़ाने की ज़रूरत है ताकि हर साल महिला और पुरुष कांस्टेबिल की भर्ती की क्षमता दोगुनी की जा सके.''

चिदंबरम का कहना था,'' राज्य केवल ज़रूरतभर के पुलिसकर्मियों की भर्ती कर पाते हैं. इनमें से अधिकांश स्थान अवकाश ग्रहण, इस्तीफ़ा देने, मृत्यु अथवा विकलांगता के कारण खाली होते हैं.

गृह मंत्री ने कहा,'' जब तक की क्षमता नहीं बढ़ाई जाती, राज्य अनुमानित तीन लाख 35 हज़ार खाली पदों को नहीं भर पाएँगे और अपनी ताकत नहीं बढ़ा पाएँगे.''

चिदंबरम ने पुलिसकर्मियों को फोरेंसिक, गुप्तचर सूचना और साइबर क्राइम के क्षेत्र में प्रशिक्षित करने के लिए विशेष प्रशिक्षण स्कूल स्थापित करने की भी ज़रूरत बताई.

संबंधित समाचार