क्या बिजली है विकास के रास्ते का रोड़ा?

बीबीसी हिंदी की विशेष लाइव कमेंटरी. बीबीसी हिंदी की विशेष लाइव कमेंटरी.
यह अपने आप अपडेट होता रहेगा.

ताज़ा पेज देखें

20:28 IST- बीबीसी इंडिया बोल के इस अंक में इतना ही. फिर मुलाक़ात होगी, तब तक के लिए नमस्कार.

20:27 IST- आरपी सिंह का कहना है कि समस्या को दूर करने के लिए बिजली का व्यवसायीकरण करने की ज़रूत है.

20:26 IST- कुशीनगर से एक श्रोता शुक्ला जी का कहना है कि बिजली की चोरी बड़े-बड़े उद्योग धंधे वाले भी करते हैं.

20:25 IST- बिजली की कमी की समस्या पर दशरथ का कहना है कि जब तकनीक है तो बिजली की चोरी पर क्यों नहीं रोक लगाई जा रही है, वो कहते हैं कि सरकारी तंत्र पैसा कमाने के लिए ऐसा करता है.

20:24 IST- गाज़ीपुर से प्रदीप कहते हैं कि उनके गांव में केवल छह घंटे ही बिजली मिलती है.

20:23 IST- आरपी सिंह के अनुसार बिजली के वितरण को सुधारने की ज़रूत है.

20:21 IST- आरपी सिंह कहते हैं कि बिजली की गंभीर समस्या से निपटने के लिए बिजली के उत्पादन पर ज़ोर देने की ज़रूरत है और बिजली उत्पादन के सभी विकल्प पर ध्यान देने की आवश्यकता है.

20:20 IST- हाजीपुर से ब्रजकिशोर सिंह कहते हैं बिजली की समस्या के लिए आम लोग ही ज़िम्मेदार हैं.

20:19 IST- सिंगापुर से कुलदीप सिंह की राय है कि बिजली की चोरी रुकनी चाहिए.

20:18 IST- यूसुफ़ अली का कहना है कि बिजली की कमी भारत के महाशक्ति बनने में रोड़ा बना हुआ है.

20:17 IST- आरपी सिंह कहते हैं कि सरकार बिजली की समस्या को दूर करने के लिए विकल्पिक तरीक़े अपना रही है.

20:16 IST- बिजली की चोरी का कारण बताते हुए आरपी सिंह कहते हैं कि यह एक राजनीतिक मुद्दा है.

20:15 IST- मध्यप्रदेश से नीरज कहते हैं कि गांव में लोग बिजली का बिल जमा नहीं करते और चोरी भी करते हैं.

20:14 IST- दशरथ सिंह सवाल उठाते हैं कि आम लोगों को चोरी करने का मौक़ा ही क्यों दिया जाता है.

20:12 IST- आरपी सिंह की राय में बिजली की समस्या में उत्पादन और ज़रूरत में अंतर है और ये आगे भी रहेगा. लेकिन वो यह भी कहते हैं कि चोरी भी एक समस्या है.

20:11 IST- कैमूर, झारखंड से शिव शंकर कहते हैं कि उनके इलाक़े में बिजली की समस्या बहुत ही गंभीर है. आंधी-तूफ़ान में बिजली के खंभे उखड़ जाते हैं.

20:09 IST- नालंदा, बिहार से गौतम कुमार का कहना है कि उनके गांव में बिजली की व्यवस्था सही नहीं है और लोग भी बिजली बर्बाद करते हैं.

20:08 IST- हालांकि आरपी सिंह सलीम की राय से सहमत नहीं हैं.

20:07 IST- सलीम का मानना है कि लोगों की कम आमदनी बिजली चोरी करने का एक कारण है.

20:06 IST- एक अन्य श्रोता सलीम का कहना है कि सरकार की नीतियां बिजली चोरी करने पर मजबूर करती हैं.

20:05 IST- आरपी सिंह का कहना है कि गांव-गांव तक बिजली पहुंचे इसके लिए सरकार को आम लोगों का ख़्याल करने की ज़रूरत है. वो यह भी मानते हैं कि आम लोग बिजली बर्बाद करते हैं.

20:03 IST- एक श्रोता अंजू का कहना है कि बिजली उत्पादन भी एक बड़ी समस्या है. सरकार को इस बारे में भी सोचना चाहिए.

20:02 IST- कोलकाता से रवि रंजन कहते हैं कि बिजली की चोरी एक बड़ी समस्या है.

20:01 IST- रूपा ने दुष्यंत कुमार की पंक्ति, 'कहां तो तय था चरग़ां हर एक घर के लिए, कहां चराग़ मयस्सर नहीं शहर के लिए' से शुरु की है.

19:57 IST- इस पूरे मामले पर बातचीत करने के लिए पावर ग्रीड ऑफ़ इंडिया के पूर्व अध्यक्ष आरपी सिंह भी स्टूडियो में पहुंच चुके हैं.

19:53 IST- कार्यक्रम को पेश करने के लिए रूपा झा स्टूडियो में पहुंच चुकी हैं.

19:52 IST - इस बार बीबीसी इंडिया बोल का विषय है कि क्या बिजली है विकास के रास्ते का रोड़ा?

19.50 IST - आप 1800 102 7001 पर भी डायल कर सकते हैं.

19:48 IST - कार्यक्रम में सीधे शामिल होने के लिए 1800117000 डॉयल करें.

19:30 IST: नमस्कार, बीबीसी इंडिया बोल के इस अंक में आपका स्वागत है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.