आतंकवाद का मुद्दा उठाएगा भारत

निरुपमा राव
Image caption निरुपमा राव पाकिस्तान पहुँच गई हैं

गुरुवार को इस्लामाबाद में होने वाली भारत-पाकिस्तान की विदेश सचिव स्तर की बातचीत के लिए निरूपमा राव पाकिस्तान पहुँच गई हैं.

माना जा रहा है कि परस्पर विश्वास बहाल करने की कोशिश के तहत हो रही इस बातचीत में भी मुख्य मुद्दा 'सीमा पार से होने वाला आतंकवाद' ही रहेगा.

बुधवार की रात को पाकिस्तान के विदेश सचिव सलमान बशीर ने भारतीय विदेश सचिव निरुपमा राव के सम्मान में रात्रिभोज का आयोजन किया.

विदेश सचिव स्तर की बातचीत का उद्देश्य 15 जुलाई को होने वाली विदेश मंत्री स्तर की बातचीत के लिए तैयारी करना है.

समाचार एजेंसी पीटीआई ने भारतीय आधिकारिक सूत्रों के हवाले से कहा है कि सीमा पार आतंकवाद के अलावा भारतीय विदेश सचिव पाकिस्तान से मुंबई हमलों के दोषियों को दंडित किए जाने की माँग करेंगी जिनमें जमात-उद-दावा के प्रमुख हाफ़िज़ मोहम्मद सईद भी शामिल हैं.

अपनी पाकिस्तान यात्रा पर रवाना होने से पहले उन्होंने कहा कि "भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में बहुत उतार-चढ़ाव आते रहे हैं, पिछले साठ वर्षों में बहुत सारी कठिनाइयाँ रही हैं, हम वहाँ इन कठिनाइयों और जटिलताओं को समझने के लिए खुले नज़रिए के साथ जा रहे हैं."

भारतीय विदेश सचिव ने ज़ोर देकर कहा कि आतंकवाद सबसे अहम मुद्दा होगा लेकिन उन्होंने कि दोनों देशों को व्यावाहारिक रुख़ अपनाना होगा, उन्होंने कहा कि समस्याओं को सुलझाने के लिए किसी के पास 'जादुई छड़ी' नहीं है.

जानकारों का मानना है कि विदेश सचिव स्तर की इस बातचीत से किसी तरह का हल या परिणाम निकलने की उम्मीद किसी को नहीं है, दोनों विदेश सचिव भी इसे 'आपसी समझ बढ़ाने के लिए हो रही बातचीत' करार दे रहे हैं

संबंधित समाचार