मुख्यमंत्री की भावनात्मक अपील

उमर अब्दुल्ला
Image caption उमर ने राजनीतिक दलों से भी अपील की कि वो मतभेद भुलाकर शांति बनाने की कोशिश करें.

भारत प्रशासित कश्मीर में सुरक्षा बलों की फायरिंग में तीन और युवकों के मारे जाने के बाद मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने शांति के लिए भावनात्मक अपील की है और अभिभावकों से कहा है कि वो अपने बच्चों को सुरक्षा बलों पर पत्थरबाज़ी करने से रोकें.

पुलिस के अनुसार श्रीनगर के पास अनंतनाग-पहलगाम रोड पर एक उग्र भीड़ पर सुरक्षा बलों ने फायरिंग की जिसमें 23 वर्षीय इम्तियाज़ अहमद, 20 वर्षीय इश्तियाक अहमद और 24 वर्षीय सज्जाद उल इस्लाम की मौत हो गई.

कश्मीर में युवकों की मौत

घटना के बाद आसपास के इलाक़ों में भी लोगों में गुस्सा भड़क उठा और लोग सड़कों पर उतर आए.

राज्य में पिछले कुछ हफ़्तों से लगातार सुरक्षा बलों की फायरिंग में लोगों की मौत हो रही है और इस कारण विपक्षी दल मुख्यमंत्री उमर फ़ारुक की कड़ी आलोचना कर रहे हैं.

मंगलवार को मुख्यमंत्री ने एक संवाददाता सम्मेलन में लोगों से भावनात्मक अपील की. उन्होंने कहा, ‘‘मैं हाथ जोड़कर सभी अभिभावकों से अपील करता हूं कि वो बच्चों को समझाएं ताकि वो बच्चे गुस्से में बाहर आकर सुरक्षा बलों पर पत्थरबाज़ी न करें.’’

उमर अब्दुल्ला ने अलगाववादी नेताओं पर आरोप लगाया कि वो कश्मीरी युवकों को हिंसा के लिए भड़काते हैं.

पिछले डेढ़ साल से मुख्यमंत्री पद संभाल रहे अब्दुल्ला ने कहा कि अलगाववादी नेताओं ने विरोध कैलेंडर जारी कर युवकों को भड़काने का काम किया है.

मुख्यमंत्री ने इस बात का खंडन किया कि विरोध प्रदर्शन स्वत: स्फूर्त हैं और लोग सरकार से नाराज़ हैं.

उन्होंने कहा, ‘‘यह लड़ाई विचारों और विचारधाराओं की है जिसमें राष्ट्र विरोधी ताकतें और अपना उल्लू सीधा करने वाले लोग एक साथ मिलकर परेशानी खड़ी कर रहे हैं.’’

उन्होंने राजनीतिक दलों से अपील की कि वो विचारधारा से ऊपर उठकर अपने राजनीतिक मतभेदों को दूर करें ताकि ये सुनिश्चित हो कि आज जैसी मौतें हुई हैं वो बार बार न हों.

उन्होंने कहा, ‘‘इंशा अल्लाह मुझे पूरा यकीन है कि अगर हम सभी मिलकर काम करेंगे.. अपना मन बनाएंगे तो ये संभव है कि घाटी में शांति स्थापित हो जाए.’’

उन्होंने कहा कि यह अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है कि घाटी के भावुक युवकों का इस्तेमाल किया जा रहा है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि सुरक्षा बलों से अत्यधिक संयम बरतने को कहा है और इसीलिए कर्फ्यू लगाया गया है ताकि स्थिति पर नियंत्रण किया जा सके.

संबंधित समाचार