कश्मीर: चार और स्थानों में कर्फ़्यू

कश्मीर (फ़ाइल फ़ोटो)

प्रदर्शनों को रोकने के लिए भारत प्रशासित कश्मीर के चार और स्थानों-अनंतनाग, कुलगाम, पुलवामा और सोपोर में अनिश्चितकालीन कर्फ़्यू लगा दिया गया है.

कश्मीर घाटी के अन्य हिस्सों में भी पुलिस की गोलीबारी में मारे गए लोगों के विरोध में बुधवार को बंद रखा गया है.

ग़ौरतलब है कि मंगलवार को अनंतनाग में तीन लोगों की पुलिस फ़ायरिंग में मौत हो गई थी, इसमें दो किशोर शामिल थे. साथ ही तीन अन्य घायल हो गए थे.

इन हत्याओं के बाद अनंतनाग में भारी विरोध प्रदर्शन हुआ और अनेक वाहनों में आग लगा दी गई.

गोलीबारी और तनाव

इस गोलीबारी के बाद राज्य के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने शांति के लिए भावनात्मक अपील की और अभिभावकों से कहा कि वो अपने बच्चों को सुरक्षा बलों पर पत्थरबाज़ी करने से रोकें.

उन्होंने कहा,''मैं हाथ जोड़कर सभी अभिभावकों से अपील करता हूं कि वो बच्चों को समझाएं ताकि वो बच्चे गुस्से में बाहर आकर सुरक्षा बलों पर पत्थरबाज़ी न करें.''

राज्य में पिछले कुछ हफ़्तों से लगातार सुरक्षा बलों की फायरिंग में लोगों की मौत हो रही है और इस कारण विपक्षी दल मुख्यमंत्री उमर फ़ारुक की कड़ी आलोचना कर रहे हैं.

इधर उमर अब्दुल्ला ने अलगाववादी नेताओं पर आरोप लगाया कि वो कश्मीरी युवकों को हिंसा के लिए उकसा रहे हैं.

मुख्यमंत्री ने इस बात का खंडन किया कि विरोध प्रदर्शन अपने आप हुए और लोग सरकार से नाराज़ हैं.

मुख्यमंत्री ने कहा कि सुरक्षा बलों से अत्यधिक संयम बरतने को कहा है और इसीलिए कर्फ़्यू लगाया गया है ताकि स्थिति पर नियंत्रण किया जा सके.

दरअलव हुर्रियत कॉन्फ़्रेंस के गिलानी और मीरवाइज़ दोनों धड़ों ने सुरक्षाबलों की गोलीबारी में हुईं मौतों का विरोध करते हुए 'सोपोर मार्च' का आव्हान किया था और इस दौरान प्रदर्शनकारियों और सुरक्षाबलों के बीच झड़पें हुईं थीं.

संबंधित समाचार