दिल्ली एयरपोर्ट के टर्मिनल-3 का उदघाटन

दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के टर्मिनल-3 का शनिवार को प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और राष्ट्रीय सलाहकार परिषद की अध्यक्ष सोनिया गांधी ने उदघाटन किया है.

इस टर्मिनल के 14 जुलाई से काम में आने के बाद दिल्ली का आईजीआई हवाई अड्डा दुनिया का पाँचवाँ सबसे बड़ा हवाई अड्डा बन जाएगा. अब आईजीआई एयरपोर्ट से हर साल कुल 3.4 करोड़ यात्री आ-जा सकेंगे. फ़िलहाल एक करोड़ यात्री हर साल इसका इस्तेमाल कर सकते हैं.

ये टर्मिनल पर 14 जुलाई से उड़ानों का आना-जाना शुरु हो जाएगा.

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का कहना था कि आईजीआई एयरपोर्ट सेवाओं के स्तर पर दुनिया के बेहतरीन हवाई अड्डों के मुकाबले 2007 में 101वें स्थान पर और 2010 में 21 स्थान पर हैं.

उन्होंने आश्वासन दिया कि बेहतर सेवाओं-सुविधाओं के साथ इसे दुनिया के पहले दस बेहतरीन हवाई अड्डों में गिना जाएगा.

क्षेत्र में 120 अरब डॉलर का पूँजी निवेश संभव

इस टर्मिनल का उदघाटन करते हुए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने इसे निजी और सरकारी क्षेत्र की साझेदारी का सबसे अच्छा उदाहरण बताया.

एयरपोर्ट टर्मिनल को बंगलौर स्थित जीएमआर ग्रुप के नेतृत्व में बनाया गया है और इसे बनाने में एयरपोर्ट ऑथॉरिटी ऑफ़ इंडिया, जर्मनी के फ़्रापोर्ट और मलेशिया एयरपोर्ट होल्डिंग भी शामिल थे.

मनमोहन सिंह ने कहा कि विमानन क्षेत्र में भारत 9वां सबसे बड़ा बाज़ार बन गया है.

उनका कहना था, "वर्ष 1990 में भारत में दो विमान कंपनियाँ काम कर रही थीं जबकि आज इनकी संख्या 10 हो गई है. जहाँ उस समय भारत के हवाई क्षेत्र में 100 विमान सक्रिय थे, वहीं अब लगभग 400 विमान सक्रिय हैं....भारत के विमानन क्षेत्र में लगभग 120 अरब डॉलर के पूँजी निवेश की गुँजाइश है."

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का कहना था कि जहाँ भारत में घरेलू यात्रियों की संख्या 160 से 180 अरब पहुँच गई है, वहीं विदेशी यात्रियों की संख्या लगभग 50 अरब है.

संबंधित समाचार