लंबा सफ़र तय करती ट्रक चित्रकला

  • 6 जुलाई 2010
ट्रक चित्रकारी
Image caption ट्रकों के पीछे की गई चित्रकारी मुसाफिरों को अपनी ओर खींच ही लेती है

भारत में ट्रकें माल ढुलाई का सबसे अहम जरिया हैं. एक तरह से ये भारतीय अर्थव्यवस्था की जीवन रेखा होती हैं.

अक्सर हमें ट्रकों के पीछे शेर-ओ-शायरी के साथ कुछ दिलचस्प चित्रकला नज़र आती हैं. शायरी कुछ इस तरह होती हैं-

"पप्पू यार तंग ना कर", "अस्सी के फूल, तेरह की माला, बुरी नज़र वाले तेरा मुंह काला"-वगैरह, वगैरह.

वहीं, दूसरी तरफ़ यहां दिखने वाली चित्रकला, जिसे आम तौर पर ट्रक आर्ट के नाम से जाना जाता है, हमारे दिल को बहुत गुदगुदाती है.

राष्ट्रीय राजमार्गों पर अक्सर सफ़र करने वाली बिनीत कौर कहती हैं, "ज़्यादातर ट्रकों पर एक दुल्हन का चित्र बना होता है. वो अपने पति का इंतज़ार कर रही होती है. उसके नीचे लिखे शब्द जैसे – तुम कब आओगे- मुझे हमेशा हँसाते हैं."

एक तरफ़ ट्रक आर्ट मुसाफ़िरों के हास्य का मसाला बनती हैं तो दूसरी ओर ये ट्रक चालकों को गौरवान्वित करती हैं. जिन ट्रकों को वे अपना दूसरा घर मानते हैं, उनकी सजावट से तो उनका मान बढ़ता ही है.

ऐसे ही एक ट्रक चालक, मोहम्मद इरशाद ने कहा, "मुझे अपनी गाड़ी को सजाना अच्छा लगता है. सबकी नज़र मेरे ट्रक पर पड़ती है. रेडियम और पेंट से बनी चित्रकला से गाड़ी रात के समय भी चमकती है."

पर्दे के पीछे के कलाकार

पर कौन हैं वो पर्दे के पीछे के कलाकार जो अपने ब्रश के जादू से एक रूखे-सूखे वाहन पर चार-चाँद लगा देते हैं?

ट्रक आर्टिस्ट ऐसे कलाकार हैं जो अपनी कला का प्रदर्शन किसी कागज पर नहीं बल्कि ट्रकों पर करते हैं.

ऐसे ही एक ट्रक आर्टिस्ट आनंद कहते हैं, "मुझे बचपन से चित्र बनाने में रूचि थी. जब इस काम को पहली बार देखा तब से ही मैं इस काम को कर रहा हूँ. अब मैं ट्रक चालकों के लिए चित्र बनाता हूँ. पंजाब के चालक अक्सर शेर बनवाते हैं. वैसे ही दिल्ली और उत्तर प्रदेश के लोग प्राकृतिक दृश्यों के शौकीन होते हैं."

वैसे तो ट्रक आर्ट ने जनजातीय रूप में जन्म लिया था. लेकिन आज यह कला शहरों में लोगों के घरों तक पहुँच गई है.

पेशे से क्रिएटिव डायरेक्टर नीरज सहाय बताते हैं कि ट्रक आर्ट अब फैशन जगत का भी हिस्सा बनने लगी है.

नीरज कहते हैं, "ट्रक आर्ट का प्रयोग डिज़ाइनर्स द्वारा कपड़ों के साथ-साथ जूतों पर भी किया जा रहा है. इसके अलावा इनका इस्तेमाल तोहफों की सजावट के लिए भी किया जाता है. कई बार हम इस कला को पोस्ट कार्ड पर भी देखते हैं. मैं ख़ुद इस कला को प्रदर्शनी में शामिल कर चुका हूँ. "

असल में, ट्रकों की सजावट से लेकर फ़ैशन के कपड़ों तक ट्रक आर्ट ने एक लंबा सफर तय किया है.

संबंधित समाचार