कश्मीर पर होगी सर्वदलीय बैठक

Image caption कश्मीर में सेना को बुलाया गया है

जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने घाटी के हालात पर चर्चा करने के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाई है. ये बैठक सोमवार 12 जुलाई को होगी.

इस सर्वदलीय बैठक से एक दिन पहले मुख्यमंत्री राज्य में गठबंधन सरकार में शामिल विधायकों की बैठक करेंगे.

वहीं गृह मंत्री पी चिदंबरम ने उम्मीद जताई है कि कश्मीर में सेना की ज़्यादा समय के लिए ज़रूरत नहीं पड़ेगी. उन्होंने कश्मीर के लोगों से अपील की है कि वे घाटी में लगाए गए कर्फ़्यू और अन्य पाबंदियों का पालन करें.

भारत प्रशासित कश्मीर के श्रीनगर सहित कई इलाक़ों में कर्फ़्यू जारी है और सुरक्षा के कड़े इंतज़ाम किए गए हैं.

दिल्ली में पत्रकारों से बातचीत के दौरान पी चिदंबरम ने कहा कि क़ानून व्यवस्था कायम रखने और गश्त लगाने का काम मुख्यत राज्य पुलिस और सीआरपीएफ़ करेगी और सेना को तभी इस्तेमाल किया जाएगा अगर इसकी ज़रूरत होगी.

उन्होंने कहा, "राज्य सरकार के अनुरोध पर सेना को बुलाया गया है. मुझे ये बताने की अनुमति नहीं है कि सेना को कहाँ तैनात किया गया है. पर मैं ये आश्वासन दे सकता हूँ कि हिंसा प्रभावित इलाक़ों में गश्त जारी है और पुलिस कर्फ़्यू लागू करवा रही है."

बुधवार को कुछ इलाक़ों में सेना ने फ़्लैगमार्च किया था लेकिन सेना की ओर से स्पष्ट किया गया है कि वो प्रदर्शनकारियों से निपटने के लिए नहीं बल्कि शांति क़ायम करने के लिए सुरक्षाबलों की सहायता के लिए है.

कश्मीर में पिछले कई दिनों से विरोध प्रदर्शनों और हिंसा का दौर जारी है और जून के बाद से अब तक पुलिस के साथ झड़पों में 16 लोगों की मौत हो चुकी है.

पिछले महीने सोपोर में दो युवकों के कथित रुप से अर्धसैनिक बलों की गोली से मौत हो जाने के बाद प्रदर्शनों का नया दौर शुरु हुआ है.

संबंधित समाचार