कश्मीर में कई जगह कर्फ़्यू जारी

  • 8 जुलाई 2010
सेना की बख़्तरबंद गाड़ी
Image caption सेना की बख़्तरबंद गाड़ियाँ भी श्रीनगर में गश्त लगाती दिखाई पड़ीं

भारत प्रशासित कश्मीर के श्रीनगर सहित कई इलाक़ों में कर्फ़्यू जारी है और सुरक्षा के कड़े इंतज़ाम किए गए हैं.

श्रीनगर में बुधवार को एक जगह हवाई फ़ायरिंग की गई और सभी इलाक़ों में कर्फ़्यू जारी है. वहाँ बुधवार को कुछ इलाक़ों में सेना ने फ़्लैगमार्च किया था लेकिन सेना की ओर से स्पष्ट किया गया है कि वह वहाँ प्रदर्शनकारियों से निपटने के लिए नहीं बल्कि शांति क़ायम करने के लिए सुरक्षाबलों की सहायता के लिए है.

उधर अनंतनाग में नौवें दिन भी कर्फ़्यू जारी है. इसके अलावा पुलवामा और कोकपोरा कस्बों में भी कर्फ़्यू लगा हुआ है. कुपवाड़ा और त्रेहगाग के सीमावर्ती कस्बों में भी कर्फ़्यू लगाया गया है. सोपोर में भी बुधवार से कर्फ़्यू लगा दिया गया है.

इस बीच केंद्रीय गृहसचिव जीके पिल्लई राज्य के दौरे पर हैं. उन्होंने राज्य के आलाअधिकारियों, अर्धसैनिक बल सीआरपीएफ़ के अधिकारियों और सेना के अधिकारियों से भी चर्चा की है.

पिल्लई की मुलाक़ात राज्य के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला से भी हुई है. संभावना है कि वे गुरुवार को अपनी रिपोर्ट केंद्र सरकार को सौंपेंगे.

राज्य प्रशासन ने मीडिया के लिए जारी किए गए पास रद्द कर दिए हैं और बुधवार को उनको शहर में निकलने की अनुमति ही नहीं दी.

इसके विरोध में कश्मीर से निकलने वाले अख़बार गुरुवार को प्रकाशित नहीं हुए हैं.

हिंसा

कश्मीर में पिछले कई दिनों से विरोध प्रदर्शनों और हिंसा का दौर जारी है और जून के बाद से अब तक पुलिस के साथ झड़पों में 16 लोगों की मौत हो चुकी है.

पिछले महीने सोपोर में दो युवकों के कथित रुप से अर्धसैनिक बलों की गोली से मौत हो जाने के बाद प्रदर्शनों का नया दौर शुरु हुआ.

मंगलवार शाम को पुलिस के साथ झड़प में तीन लोगों की मौत हो गई थी. इसके बाद राज्य सरकार ने श्रीनगर में सेना को बुलाया था.

लेकिन सेना ने जवानों की तैनाती की जगह शहर के कुछ इलाक़ों में फ़्लैगमार्च ही किया है.

सेना ने स्पष्ट कर दिया है कि उसके जवान फ़िलहाल सड़कों पर नहीं उतर रहे हैं और यह कार्य पुलिस और सीआरपीएफ़ के ज़िम्मे ही रहेगा.

राज्य के पुलिस अधिकारियों के मुताबिक अमरनाथ यात्रियों की सुरक्षा के लिए बड़ी संख्या में पुलिस और अर्धसैनिक बलों को तैनात किया गया है इसलिए श्रीनगर और आसपास के इलाक़ों में तैनात करने के लिए सुरक्षा बलों की पर्याप्त संख्या उपलब्ध नहीं है.

संबंधित समाचार