बंद के दौरान नक्सली हिंसा, सात की मौत

  • 8 जुलाई 2010
सुरक्षाकर्मी
Image caption नक्सलियों ने सीआरपीएफ़ के कई कैंपों पर हमले किए हैं

माओवादियों या नक्सलियों ने दो दिनों के बंद के दौरान छत्तीसगढ़, झारखंड और उड़ीसा राज्यों में कई जगह हमले किए हैं जिसमें कुल मिलाकर सात लोगों की जानें गई हैं और कई घायल हो गए हैं.

झारखंड में एक रेलवे स्टेशन को आग लगा दी गई है और एक जगह रेलवे ट्रैक को उड़ा दिया गया है. जबकि छत्तीसगढ़ और उड़ीसा से पुलिस स्टेशनों को उड़ाने की ख़बरें हैं.

छत्तीसगढ़ में कई जगह अर्धसैनिक बलों के कैंपों पर नक्सलियों ने गोलीबारी की है जबकि एक कांग्रेस नेता के घर पर हुई फ़ायरिंग में दो सुरक्षाकर्मियों सहित चार लोगों के मारे जाने और दो के घायल होने की ख़बरें हैं. पुलिस ने छह नक्सलियों के मारे जाने का भी दावा किया है.

अपने वरिष्ठ नेता चेरुकुरी राजकुमार उर्फ़ आज़ाद के कथित पुलिस मुठभेड़ में मारे जाने के विरोध में माओवादियों ने दो दिनों के भारत बंद का आह्वान किया है.

केंद्र सरकार ओर रेलवे ने मंगलवार की रात 12 बजे शुरु हुए बंद के लिए कड़ी सुरक्षा और सतर्कता के आदेश दिए हैं.

यह बंद गुरुवार की रात 12 बजे तक चलेगा.

हिंसा

हिंसा की सबसे अधिक घटनाओं की ख़बरें छत्तीसगढ़ से आई हैं.

वहाँ बस्तर के दंतेवाड़ा, नारायणपुर, कांकेर और बीजापुर में कई जगह सीआरपीएफ़ के कैंपों में नक्सलियों ने गोलीबारी की है. हालांकि इस गोलीबारी में किसी के हताहत होने की ख़बर नहीं है.

छतीसगढ़ के दंतेवाड़ा में माओवादी छापामारों ने एक कांग्रेस के नेता अवधेश गौतम के घर पर हमला किया.इस हमले में गौतम के साले और मुंशी के मारे जाने की ख़बरें हैं.

पुलिस के अनुसार इसके अलावा दो सुरक्षाकर्मी भी इस हमले में मारे गए हैं. जबकि उनके बेटे सहित दो लोग घायल बताए गए हैं.

दंतेवाड़ा के ही कुआँकोंडा थाने पर हुए माओवादियों के हमले में दो जवान मारे गए हैं जबकि दंतेवाड़ा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एस के कल्लूरी ने दावा किया है कि जवाबी कार्रवाई में सुरक्षा बलों ने छह नक्सलियों को मार गिराया है.

पूर्व मध्य रेलवे के प्रवक्ता एके दास का कहना है कि माओवादियों ने हेहेगढ़ा स्टेशन पर ज़ोरदार धमाका किया जिसकी वजह से रेलवे स्टेशन के भवन को काफ़ी नुक़सान पहुँचा है.

इस धमाके से पहले माओवादियों ने भवन को खाली करवा लिया था जिसकी वजह से कोई हताहत नहीं हुआ.

धनबाद रेल मंडल के ही निचितपुर में भी माओवादियों ने अप और डाउन रेल पटरियों को विस्फोट कर उड़ा दिया है जिस कारण ट्रेनों का परिचालन पूरी तरह ठप हो गया है.

झारखंड के लातेहार ज़िले में माओवादियों के साथ हुई मुठभेड़ में झारखंड जगुआर फोर्स के एक जवान के मारे जाने की ख़बर है.

एक और नक्सल प्रभावित राज्य उड़ीसा से ख़बरें हैं कि क्योंझर ज़िले में एक पुलिस थाने को नक्सलियों ने उड़ा दिया है और एक सब इंस्पेक्टर का अपहरण कर लिया है.

संबंधित समाचार