दुनिया में पाँच अरब मोबाइल कनेक्शन

मोबाइल
Image caption दुनिया के 47 प्रतिशत मोबाइल कनेक्शन एशिया-प्रशांत क्षेत्र में हैं

दुनिया में पिछले डेढ़ साल में एक अरब नए मोबाइल कनेक्शनों के साथ पूरे विश्व में मोबाइल कनेक्शनों की संख्या पाँच अरब हो गई है.

दुनिया भर में मोबाइल कनेक्शनों के बारे में जानकारी देने वाली संस्था वायरलेस इंटेलिजेंस के अनुसार एशिया-प्रशांत क्षेत्र में भारत-चीन में मोबाइल कनेक्शनों के तेज़ी से बढ़ने के कारण जून 2010 तक एशिया-प्रशांत क्षेत्र में दुनिया के 47 प्रतिशत कनेक्शन हो गए थे.

वर्ष 2008 में विश्व में मोबाइल कनेक्शन चार अरब तक पहुँच गए थे और वायरलेस इंटेलिजेंस के विश्लेषकों के अनुसार वर्ष 2012 के मध्य तक ये संख्या छह अरब तक पहुँच जाएगी.

भविष्य में और विस्तार

पाँच अरब मोबाइल कनेक्शन का मतलब है कि इनकी संख्या पर्सनल कंप्यूटर के मुकाबले में तीन गुना है. वर्ष 1994 से 10 अरब मोबाइल बिक चुके हैं और केवल नोकिया ने ही 3.4 अरब मोबाइल बेचे हैं. इसका मतलब ये हुआ कि पाँच अरब मोबाइल तो केवल लोगों के दराजों में ही पड़े हुए हैं मोबाइल क्षेत्र के जानकार बेन वुड

मोबाइल फ़ोन क्षेत्र के जानकार बेन वुड के अनुसार, "पाँच अरब मोबाइल कनेक्शन का मतलब है कि इनकी संख्या पर्सनल कंप्यूटर के मुकाबले में तीन गुना है. वर्ष 1994 से 10 अरब मोबाइल बिक चुके हैं और केवल नोकिया ने ही 3.4 अरब मोबाइल बेचे हैं. इसका मतलब ये हुआ कि पाँच अरब मोबाइल तो केवल लोगों के दराजों में ही पड़े हुए हैं."

पश्चिमी यूरोप में मोबाइल फ़ोन की पहुँच 130 प्रतिशत है और पूर्वी यूरोप में भी ये 123 प्रतिशत है. अफ़्रीका में ये 52 प्रतिशत है.

पर्यवेक्षकों का मानना है कि जितने नए यंत्र मोबाइल से जोड़े जा सकते हैं उन्हें देखते हुए अनुमान लगाया जा सकता है कि भविष्य में ये बाज़ार में ख़ासा फैल सकता है.

बेन वुड का कहना है कि आर्थिक तंगी के बावजूद सब-सहारा के अफ़्रीकी देशों में मोबाइल कनेक्शन तेज़ी से बढ़ेंगे, चाहे ग़रीबी के कारण कई जगह मोबाइल का ख़र्च निकाल पाना मुश्किल काम है.

संबंधित समाचार