गुजरात के मंत्री को सीबीआई का समन

सोहराबुद्दीन शेख़
Image caption सोहराबुद्दीन शेख़ वर्ष 2005 में मारे गए थे

केंद्रीय जाँच ब्यूरो (सीबीआई) ने सोहराबुद्दीन शेख़ फ़र्जी मुठभेड़ मामले में गुजरात के गृह राज्य मंत्री अमित शाह से पूछताछ के लिए समन जारी किया है.

अमित शाह को गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी का काफ़ी क़रीबी माना जाता है.

अमित शाह पर आरोप है कि वे लगातार उन पुलिस अधिकारियों से संपर्क में थे, जो फ़र्जी मुठभेड़ के मामले में जेल में बंद हैं.

सीबीआई ये दावा करती है कि उसके पास गुजरात के गृह मंत्री के ख़िलाफ़ काफ़ी सबूत हैं. सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद सीबीआई सोहराबुद्दीन शेख़ मामले की जाँच कर रही है.

गिरफ़्तारी

26 नवंबर 2005 को गुजरात पुलिस के आतंकवाद निरोधी दस्ते (एटीएस) और राजस्थान पुलिस की एक मुठभेड़ में सोहराबुद्दीन शेख़ मारे गए थे.

गुजरात पुलिस ने कहा था कि सोहराबुद्दीन शेख़ चरमपंथी थे. लेकिन बाद में गुजरात सरकार की जाँच में पुलिस का यह दावा ग़लत साबित हुआ था.

इसके बाद सोहराबुद्दीन शेख़ के परिजनों ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाकर न्याय की गुहार लगाई और दावा किया कि मुठभेड़ फ़र्जी थी.

इसके बाद इस मामले में तीन आईपीएस अधिकारियों- डीजी वंज़ारा, राजकुमार पांडियन और दिनेश कुमार एमएन को गिरफ़्तार किया गया था.

बाद में सीबीआई ने जाँच अपने हाथ में लेने के बाद अहमदाबाद के पुलिस उपायुक्त रहे अभय चुडासामा को गिरफ़्तार किया था.

संबंधित समाचार