पाक विदेश मंत्री पर बरसे मनमोहन

मनमोहन सिंह
Image caption मनमोहन सिंह ने उम्मीद जताई कि बातचीत जल्द शुरू होगी

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पिछले दिनों भारत और पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों के बीच बातचीत के बाद संवाददाता सम्मेलन के दौरान हुए तमाशे के लिए पाकिस्तानी विदेश मंत्री को ज़िम्मेदार ठहराया है.

नई दिल्ली में ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन के साथ एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए मनमोहन सिंह ने उम्मीद जताई कि दोनों देशों में जल्द ही बातचीत शुरू होगी.

उन्होंने कहा कि 15 जुलाई को इस्लामाबाद में संवाददाता सम्मेलन के दौरान पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी का बर्ताव अच्छा नहीं था.

मनमोहन सिंह ने कहा, "मेरा मानना है कि पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने संवाददाता सम्मेलन में जैसा बर्ताव किया, उससे बचा जा सकता था. इससे दोनों विदेश मंत्रियों के बीच सहमति के कई मुद्दों से लोगों का ध्यान भटकता है."

प्रधानमंत्री ने कहा कि कई मुद्दों पर दोनों विदेश मंत्रियों के बीच सहमति हुई थी, जिसका संबंधों पर असर पड़ेगा.

उम्मीद

मनमोहन सिंह ने उम्मीद जताई कि पाकिस्तानी विदेश मंत्री को दिया गया न्यौता स्वीकार किया जाएगा और दोनों देशों के बीच बातचीत शुरू होगी.

Image caption संवाददाता सम्मेलन में काफ़ी तनातनी रही

इस महीने की 15 तारीख़ को इस्लामाबाद में भारतीय विदेश मंत्री एसएम कृष्णा और पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी के बीच बातचीत हुई थी. जो आतंकवाद और जम्मू-कश्मीर जैसे मुद्दे पर आरोप-प्रत्यारोप के साथ ख़त्म हुई थी.

संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में एक सवाल के जवाब में शाह महमूद क़ुरैशी ने भारत के गृह सचिव जीके पिल्लई के पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई वाले बयान पर आपत्ति जताई और उनकी तुलना हाफ़िज़ मोहम्मद सईद से कर दी.

हाफ़िज़ मोहम्मद सईद पर आरोप है कि उन्होंने ही 26 नवंबर 2008 को मुंबई में हुए हमले की साज़िश रची थी.

ब्रितानी प्रधानमंत्री डेविड कैमरन के साथ संवाददाता सम्मेलन में मनमोहन सिंह ने कहा कि पाकिस्तान उसी गंभीरता के साथ भारतीय सीमा पर आतंकवाद के ख़िलाफ़ क़दम उठाए, जितनी गंभीरता के साथ वो अपनी पश्चिमी सीमा पर तालेबान के ख़िलाफ़ कार्रवाई कर रहा है.

संबंधित समाचार