गोलीबारी में एक की मौत, उमर घायलों से मिले

कश्मीर में विरोध प्रदर्शन

भारत प्रशासित कश्मीर में हुई हिंसा में गुरुवार को एक और व्यक्ति की मौत हो गई. पिछले कुछ दिनों में कश्मीर में 29 लोग मारे जा चुके हैं.

श्रीनगर के पास पुलवामां कस्बे में निकल रहे एक जुलूस को तोड़ने के लिए पुलिस और अर्धसैनिक बलों ने गोली चलाई जिसमें एक व्यक्ति मारा गया.

स्थानीय नागिरकों का कहना है कि जुलूस शांतिपूर्ण था लेकिन पुलिस ने ज़बरदस्ती लोगों को तितर-बितर करना चाहा.

लेकिन पुलिस का कहना है कि लोगों ने शांतिपूर्ण तरीके से अलग होने से मना कर दिया और पुलिसकर्मियों पर पत्थर बरसाए.

इससे पहले बुधवार देर शाम पुलिस फ़ायरिंग में दो नागरिक मारे गए थे.

जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला घाटी में हिंसा का शिकार हुए कई लोगों से शेरे-कश्मीर अस्पताल में जाकर मिले और चिकित्सिय सेवाओं का जायज़ा लिया.

कश्मीर घाटी में लगातार सातवें दिन भी कर्फ़्यू जारी रहा. वैसे गुरुवार को आमतौर पर शांति बनी रही.

बुधवार को पृथकतावादी नेता सैयद अली शाह गिलानी ने युवाओं से अपील की थी कि वे भारत विरोधी प्रदर्शनों के दौरान हिंसक तरीके न अपनाएँ या पत्थरबाज़ी न करे. उन्होंने ये अपील ऐसे समय जारी की है जब राज्य में आम कश्मीरियों, ख़ासतौर से युवाओं की भावनाओं में उबाल आया हुआ है.

गुरुवार को घाटी में उनकी अपील का कुछ असर दिखाई दिया.

संबंधित समाचार