रिसाव रुका, विदेशी विशेषज्ञ बुलाए गए

एमएससी चित्रा
Image caption रिसाव के बाद सफ़ाई के लिए विदेशों से विशेषज्ञों को बुलाया गया है

मुंबई के तट से कुछ ही दूरी पर दो जहाज़ों की टक्कर के कारण हो रहा तेल का रिसाव रुक गया है.

कोस्ट गार्ड के पश्चिमी क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक एसपीएस बसरा ने बीबीसी संवाददाता विनीत खरे को बताया, "जहाज़ से तेल का रिसाव अपने आप रुक गया है. ये एक राहत की बात है."

ग़ौरतलब है कि गत शनिवार को पनामा के दो समुद्री जहाज़ – एमएससी चित्रा और एमवी खालीजिया – मुंबई के तट के क़रीब आपस में टकरा गए थे. इस दुर्घटना के बाद एमएससी चित्रा से तेल का रिसाव शुरु हो गया था.

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण ने कहा है कि जहाज़ पर क़रीब 2600 मीट्रिक टन तेल था जिसमें संभवत: 500 मीट्रिक टन तो अरब सागर में रिस ही गया होगा.

इस रिसाव से मुंबई के तट पर पर्यावरणीय सकंट पैदा हो सकता है.

'क़ानूनी कार्रवाई शुरु'

उधर सरकार ने कहा है कि दोनों समुद्री जहाज़ों के मालिकों के ख़िलाफ़ क़ानूनी कार्रवाई शुरु कर दी है.

महाराष्ट्र के पर्यावरण मंत्री सुरेश शेट्टी ने कहा, "हमने दोनों शिपिंग कंपनियों के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज़ कर लिया है. दोनों जहाज़ों के कैप्टन्स से पुलिस स्टेशन में पूछताछ की गई है. हमने उनके बीमे से संबंधित काग़ज़ातों की भी जाँच की हैं."

अधिकारियों के अनुसार चित्रा जहाज़ पर रसायन और कीटनाशक के 150 कंटेनर थे जो फ़िलहाल सुरक्षित हैं.

महाराष्ट्र के पर्यावरण मंत्री सुरेश शेट्टी ने कहा है कि एमएससी चित्रा पर हज़ारों टन तेल लदा हुआ है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक मुंबई पोर्ट ट्रस्ट ने नीदरलैंड्स की एक कंपनी ‘स्मिट सालवेज’ को स्थिती से निबटने के लिए नियुक्त किया है.

एजेंसी के मुताबिक सिंगापोर से भी एक विशेषज्ञों का दल मुंबई पहुंच गया है.

संबंधित समाचार