कर्नाटक पुलिस ने मदनी को गिरफ़्तार किया

अब्दुल नसीर मदनी
Image caption कर्नाटक पुलिस दल मदनी की गिरफ़्तारी के लिए केरल में तैनात हैं

कर्नाटक पुलिस ने केरल स्थित पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता अब्दुल नसीर मदनी को वर्ष 2008 में हुए बंगलौर सिलसिलेवार धमाकों के सिलसिले में गिरफ़्तार किया कर लिया है.

इससे पहले मंगलवार को अब्दुल नसीर मदनी ने प्रेस वार्ता में कहा था कि वो आत्मसमर्पण करने के लिए तैयार है लेकिन वो सर्वोच्च न्यायालय में अपील करेंगे.

उल्लेखनीय है कि वर्ष 2008 में बंगलौर में हुए धमाकों के सिलसिले में कर्नाटक की अदालत ने उनके नाम एक ग़ैर जमानती वारंट जारी किया था. मंगलवार को इसे लागू करने का आख़िरी दिन था.

इस धमाके में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी जबकि 20 लोग घायल हो गए थे.

गिरफ़्तारी से बचने के लिए मदनी ने उच्च न्यायालय में याचिका दायर की थी. तीन अगस्त को कर्नाटक हाईकोर्ट ने मदनी की अग्रिम जमानत की याचिका ख़ारिज कर दी थी.

खंडन

हालांकि मदनी ने बंगलौर धमाकों में शामिल होने का खंडन किया है और कहा, "मुझे बंगलौर धमाकों के सिलसिले में कोई वारंट नहीं मिला है. मैंने इसके बारे में जब अख़बारों में पढ़ा तो अपने वकील से बातचीत की."ّ

कर्नाटक पुलिस का एक दल पिछले एक हफ़्ते से केरल में कानूनी कार्रवाई को पूरी करने के लिए डेरा डाले हुए है.

तमिलनाडु के कोयंबटूर में 1998 में हुए सिलसिलेवार बम धमाकों के मामले में भी मदनी पर आरोप लगे थे लेकिन ट्रायल कोर्ट ने उन्हें निर्दोष करार दिया था.

14 फ़रवरी 1998 को भारतीय जनता पार्टी के नेता लालकृष्ण आडवाणी की चुनावी रैली से कुछ ही देर पहले हुए सिलसिलेवार बम धमाकों में 58 लोग मारे गए थे और 250 से अधिक लोग घायल हो गए थे.

संबंधित समाचार