उत्तर भारत में बाढ़ की स्थिति

यमुना
Image caption दिल्ली में यमुना का जल स्तर ख़तरे के निशान को पार कर चुका है

लगातार हो रही बारिश की वजह से उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब और हरियाणा की प्रमुख नदियाँ उफान पर हैं और जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है.

राजधानी दिल्ली में यमुना ख़तरे के निशान से ऊपर बह रही है और कई जगह निचले इलाक़ों में पानी भर गया है.

लगातार हो रही बारिश की वजह से दिल्ली में कई जगह ट्रैफ़िक जाम होता रहा.

अचानक आई बाढ़ की वजह से उत्तर प्रदेश के लखीमपुर में रेल यातायात प्रभावित हुआ है जबकि घाघरा नदी में आई बाढ़ की वजह से बाराबंकी ज़िले के दर्जनों गाँवों में पानी भर गया.

फ़रुख़ाबाद ज़िले में भी कई गाँव बाढ़ की चपेट में आए हैं.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार मंगलवार को गोंडा ज़िले के चंद्रदीप घाट में 80.6 मिलिमीटर, बलरामपुर में 76.4 और भिंगा में 70.6 मिलिमीटर बारिश दर्ज की गई.

Image caption उत्तर प्रदेश के काशीराम ज़िले के एक गाँव का दृश्य

उत्तराखंड में टिहरी, उत्तरकाशी और रूद्रप्रयाग ज़िलों में भारी बारिश के बाद कई जगह भूस्खलन हुआ है.

इसकी वजह से बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री तीर्थ स्थानों के लिए जाने वाले रास्तों को बंद करना पड़ा है.

पंजाब और हिमाचल में भी पानी की वजह से नदियाँ उफान पर हैं और भाखड़ा नंगल बांध में उसकी पूरी क्षमता का पानी भर चुका है.

हरियाणा के निचले इलाक़ों में यमुना में बढ़ रहे जल स्तर की वजह से पानी प्रवेश कर गया है. सोनीपत में नदी के किनारे रहने वालों को सचेत रहने को कहा गया है.

दिल्ली बेहाल

हथिनी कुंड बराज से पानी छोड़े जाने के बाद से युमना में पानी बढ़ रहा है और यमुना ख़तरे के निशान से ऊपर बह रही है.

दिल्ली में कई जगह निचले इलाक़ों में पानी भर गया है और लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है.

यहाँ तक कि दिल्ली के मुख्य श्मसान घाट निगम बोध घाट में भी मंगलवार को पानी भर गया था.

अधिकारियों के अनुसार कई जगह राहत शिविर स्थापित किए गए हैं.

बारिश की वजह से मंगलवार को दिन भर जगह-जगह ट्रैफ़िक जाम होता रहा और यह सिलसिला बुधवार को भी जारी है.

संबंधित समाचार