चार भारतीय पहलवान निलंबित

डोपिंग टेस्ट
Image caption इन पहलवानों के शरीर में जिस पदार्थ की मात्रा पाई गई है वो ज़ुकाम खोलने के लिए नाक में डाला जाता है.

राष्ट्रमंडल खेलों से पहले हुए डोपिंग टेस्ट के बाद चार भारतीय पहलवानों को भारतीय दल से बाहर कर दिया गया है. इनमें एक अर्जुन अवॉर्ड विजेता भी हैं.

इन पहलवानों को अस्थाई रूप से निलंबित किया गया है. एक पांचवां पहलवान भी निलंबित हुआ है लेकिन वो राष्ट्रमंडल खेलों की टीम में नहीं था.

नेशनल एंटी-डोपिंग एजेंसी ने भारतीय कुश्ती महासंघ ( डब्ल्यूएफ़आई) को इस पर रिपोर्ट भेजी थी.

भारतीय कुश्ती महासंघ के उपाध्यक्ष और टीम के चयनकर्ता राज सिंह ने बीबीसी से कहा, "इन चार पहलवानों को ऐसा पदार्थ लेने के आरोप में निलंबित किया गया है जिसे डॉक्टर की सलाह लिए बग़ैर भी लिया जा सकता है. हो भी सकता है कि दो-तीन महीने बाद जब दोबारा चेकिंग की जाएगी तब ये पहलवान आरोप से मुक्त भी हो जाएं लेकिन तब तक राष्ट्रमंडल खेल ख़त्म हो जाएंगे."

उन्होंने कहा कि ये बेहद अफ़सोस की बात है क्योंकि जो टीम हमने बनाई थी वो ख़राब हो गई है.

डब्ल्यूएफ़आई के अध्यक्ष जी एस मंडेर ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स से कहा, "एनएडीए की रिपोर्ट में सामने आया है कि राष्ट्रमंडल खेल की टीम के पहलवानों के डोपिंग टेस्ट में मिथाइलहेक्ज़ेन अमाइन की मात्रा थी."

इनमें से तीन फ़्रीस्टाइल पहलवान हैं जिनके नाम है सुमित (74 किलोग्राम), मौसम खतरी ( 96 किलोग्राम), राजीव तोमर ( 120 किलोग्राम) हैं. इनमें एक महिला पहलवान भी शामिल हैं जिनका नाम है गुरशरनप्रीत कौर ( 72 किलोग्राम). इन सभी को ऐसा पदार्थ लेने के आरोप में निलंबित किया गया है जिसे ज़ुकाम खोलने के लिए नाक में डाला जाता है.

राजीव तोमर अर्जुन अवॉर्ड विजेता हैं.

उल्लेखनीय है कि जनवरी के महीने में भी चार पहलवानों को राष्ट्रमंडल खेलों के अभ्यास कैंप छोड़ने को कहा गया था. उनके टेस्ट में भी प्रतिबंधित पदार्थ की मात्रा पाई गई थी.

संबंधित समाचार