मै सुखोई उड़ाना चाहता हूं: सचिन

सचिन तेंदुलकर

भारतीय वायुसेना ने सचिन तेंदु्लकर को मानद ग्रुप कैप्टन की उपाधि से विभूषित किया है. सचिन ने कहा कि वो सुखोई उड़ाना चाहते हैं.

मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदु्लकर को शुक्रवार को ऑनररी ग्रुप कैप्टन के पद पर भारतीय वायु सेना में शामिल कर लिया गया है.

ये पूछे जाने पर कि कौनसा विमान उन्हें सबसे ज़्यादा पसंद है तो सचिन ने बिना देर किए जवाब दिया,"मैं सुखोई उड़ाना चाहता हूं."

साथ ही सचिन ने कहा, "मैं लड़ाकू विमान में बैठने के लिए एक अर्ज़ी दूंगा. मैं ये समझना चाहता हूं कि कितना मुश्किल होता है उसे संभालना. फिल्मों में तो बहुत देखा है लेकिन अब मैं असल में उसका अनुभव लेना चाहता हूं."

सचिन तेंदु्लकर को विंग कमांडर और स्कवॉ़ड्रन लीडर जैसे औहदे नहीं दिए गए क्योंकि माना जा रहा था कि ये पद सचिन के लिए छोटे रहेंगे. उस खिलाड़ी के लिए जो अपने उम्र के 20 साल से भी ज़्यादा क्रिकेट को दे चुका है.

स्पॉट-फ़िक्सिंग पर अफ़सोस

इस बीच सचिन से पाकिस्तान के खिलाड़ियों का स्पॉट- फ़िक्सिंग में नाम आने पर भी सवाल पूछा गया. सचिन ने कहा कि ये घटना बेहद ही अफ़सोसजनक है. उन्होंने कहा, "मैं कोई नहीं हूं अपना फ़ैसला सुनाने वाला. इस मामले की कार्रवाई की जांच के लिए आधिकारिक विभाग हैं. मेरा काम है क्रिकेट खेलना और ज़्यादा रन बनाना."

शुक्रवार को ऑनररी ग्रुप कैप्टन की उपाधि लेने के लिए सचिन भारतीय वायुसेना की वर्दी में आए थे.

वायुसेना को उम्मीद है कि सचिन जैसे ब्रांड के उनके साथ जुड़ने से युवाओं में वायुसेना में भर्ती होने की चाहत बढ़ेगी.

संबंधित समाचार