ईद पर हिंसा के बाद कश्मीर में कर्फ़्यू

  • 12 सितंबर 2010
कश्मीर घाटी

ईद के मौक़े पर हिंसा के बाद रविवार को भारत प्रशासित कश्मीर के श्रीनगर, बारामूला, पुलवामा, सोपोर, अनंतनाग और बिजबिहारा क्षेत्रों में कर्फ़्यू लगा दिया गया है.

ईद के अवसर भीड़ हिंसक हो गई थी और उसने सरकारी इमारतों और पुलिस थाने में आग लगा दी थी.

उल्लेखनीय है कि शनिवार को अलगाववादी नेता मीर वाइज़ उमर फ़ारुक़ ने ईद की नमाज़ के बाद रैली की शक्ल में लाल चौक पहुँच कर इस्लामिक झंडा फहराया था.

इसके बाद प्रदर्शनकारियों ने लाल चौक के पास एक सरकारी इमारत में आग लगा दी.

पुलिस ने भीड़ को काबू में करने के लिए गोली चलाई जिससे एक व्यक्ति घायल हो गया.

उमर का आरोप

जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने ईद के मौक़े पर हुई हिंसा के लिए हुरियत नेता मीरवाइज़ उमर फ़ारूक को ज़िम्मेदार ठहराया है और उनपर विश्वासघात का आरोप लगाया है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि मीरवाइज़ और जेकेएलएफ़ के नेता यासिन मलिक शांति बनाए रखने में नाकामयाब रहे.

उनका कहना था, '' मीरवाइज़ के दफ़्तर से हमारे पास लालचौक तक रैली निकालने की दरख़्वास्त आई थी. मेरे अधिकारियों ने बार-बार कहा कि भीड़ बेकाबू हो सकती है लेकिन मैंने अपने पुलिस अधिकारियों की अनसुनी करते अलगाववादी कैंप की बात मानी कि रैली शांतिपूर्ण होगी. और लालचौक पर जो भी हुआ उसे मैं विश्वासघात मानता हूं.''

मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला का कहना था,'' शांति बनाए रखने की ज़िम्मेदारी पूरी तरह से अलगाववादी नेताओं पर थी क्योंकि वो बार बार मेरी सरकार पर आरोप लगाते रहते थे कि उन्हें शांतिपूर्ण तरीके से विरोध प्रदर्शन करने की जगह नहीं दी जाती.''

उन्होंने कहा है कि शनिवार को हुई हिंसा से राज्य में शांति बहाल करने के लिए चल रहे राजनीतिक प्रयासों के लिए धक्का है.

संबंधित समाचार