महिला सिपाही की हत्या ने तूल पकड़ा

राजस्थान पुलिस (फ़ाइल फ़ोटो)
Image caption सिपाही माया यादव की लाश थाना परिसर में बने कमरे में मिली थी

राजस्थान के एक पुलिस थाने में एक महिला सिपाही के साथ सहयोगी पुलिसकर्मी ने कथित तौर पर बलात्कार का प्रयास किया और इसमें विफल होने के बाद थाने में ही उसकी हत्या कर दी गई.

राज्य सरकार ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए उस पुलिस थाने के थानेदार को निलंबित कर दिया है और पूरे थाने के स्टाफ को हटा दिया गया है.

सरकार ने पीड़िता के परिजनों को दस लाख रूपये की सहायता देने का भी ऐलान किया है. साथ ही पीड़िता के परिजनों में से एक को राज्य सरकार नौकरी भी देगी.

राज्य की कोटा पुलिस ने चेचट थाने में तैनात सिपाही माया यादव की हत्या के आरोप में पुलिस कर्मचारी देशराज और रसोइए तुलसीराम को गिरफ्तार कर लिया है.

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा, "हमने इस मामले को बहुत ही गंभीर माना है और अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक के के शर्मा को जाँच सौंपी है, कसूरवार को बक्शा नहीं जायेगा."

चौंकाने वाली घटना

इस घटना ने लोगों को हिला का रख दिया था और चेचट कस्बे में भीड़ हिंसा पर उतर आई थी. घटना बुधवार की है. इसका खुलासा तब हुआ जब सिपाही माया यादव की लाश थाना परिसर में बने कमरे में मिली.

पुलिस ने इस मामले में थाने के ही एक और कर्मचारी देशराज को गिरफ्तार कर लिया है. आरोप है कि देशराज घटना की रात शराब के नशे में था और उसने माया के कमरे में जाकर उसके साथ ज़बर्दस्ती करने का प्रयास किया.

इसमें विफल होने पर माया की गला रेतकर हत्या कर दी गई. इस घटना से उत्तेजित कस्बे के लोगों ने दो बार बंद का आयोजन किया और भीड़ हिंसा पर उतर आई. पुलिस को वहां बल प्रयोग करना पड़ा.

कोटा के पुलिस महानिरीक्षक राजीव दासोत ने कहा, "इस सिलसिले में थाना अधिकारी अमीलाल सहित दो पुलिस कर्मचारियों को निलंबित कर दिया गया है. पूरे थाने के बीस कर्मचारियों को तुरंत हटा दिया गया है. हत्या के आरोप में पुलिस जवान देशराज को गिरफ्तार कर लिया गया है."

इस घटना में राज्य सरकार को बहुत शर्मिंदगी उठानी पड़ी है. लोगों का कहना है कि जब औरत पुलिस थाने में ही महफूज नहीं है तो सुरक्षा के लिए कहाँ गुहार लगाई जाए.

संबंधित समाचार