चीन में आर्थिक नीतियों पर मंथन शुरू

Image caption चीन की कम्युनिस्ट पार्टी की इस बैठक का एजेंडा गोपनीय रखा गया है

चीन में सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी की केंद्रीय समिति की चार दिनों तक चलने वाली बैठक शुक्रवार को शुरू हुई है.

बैठक बहुत महत्वपूर्ण है और उसकी कार्यसूची पूरी तरह गोपनीय है, पत्रकारों को बिल्कुल नहीं बताया गया है कि किन मुद्दों पर चर्चा होगी लेकिन विश्लेषकों का कहना है कि अमीरों और ग़रीबों के बीच बढ़ते अंतर को कम करने पर अधिक ध्यान दिया जाएगा.

मगर लोगों का ध्यान उससे भी अधिक इस बात पर है कि पार्टी का नेतृत्व किन हाथों में जाएगा, नए नेता को 2012 में पार्टी की कमान संभालनी है.

पार्टी की अहम बैठक ऐसे समय पर हो रही है जबकि चीन में मानवाधिकारों की स्थिति को लेकर चर्चा ज़ोर पर है, इस सप्ताह के शुरू में पार्टी के 23 वरिष्ठ नेताओं के हस्ताक्षर वाला एक पत्र लीक हुआ था जिसमें इन नेताओं ने अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर लगी पाबंदियों को हटाने की माँग की थी.

इस पत्र में पार्टी के इन 23 नेताओं ने सेंसरशिप की व्यवस्था को शर्मनाक बताया है.

यह पत्र ऐसे समय पर लीक हुआ जबकि जेल में बंद मानवाधिकार कार्यकर्ता लू श्याबाओ को नोबेल शांति पुरस्कार देने की घोषणा की गई है.

चीन में कुछ लोग श्याबाओ की रिहाई के लिए अभियान चला रहे हैं.

इसी वजह से ऐसा भी माना जा रहा है कि राजनीतिक सुधारों की चर्चा इस बैठक में हो सकती है.

पंचवर्षीय योजना

चार दिन तक चलने वाले कम्युनिस्ट पार्टी की बैठक के बारे में एक ही बात लोगों को बताई गई है कि इसमें 2011 से शुरू होने वाली पंचवर्षीय योजना की रूपरेखा तैयार की जाएगी.

कम्युनिस्ट पार्टी के 300 सदस्यों वाली सेंट्रल कमेटी की बैठक के बारे में जानकारी उसके ख़त्म होने के बाद औपचारिक तौर पर दी जाती है, उससे पहले मीडिया को इससे दूर ही रखा जाता है.

सरकारी मीडिया ने इतना ही बताया है कि राष्ट्रपति हू जिंताओ और प्रधानमंत्री वेन जियाबाओ इस बैठक में अहम मुद्दों पर चर्चा करेंगे.

इस बैठक में लोगों की नज़र दो नेताओं पर रहेगी जो इस समय उप राष्ट्रपति और उप प्रधानमंत्री हैं.

उपराष्ट्रपति शि जिनपिंग और उपप्रधानमंत्री लि कियांग इस दौड़ में सबसे आगे हैं और माना जा रहा है कि इस बैठक के बाद सत्ता से उनकी दूरी या नज़दीकी का अंदाज़ा मिल सकेगा.

संबंधित समाचार