जाँच के लिए वक़्त चाहिए: प्रणव

प्रणव मखर्जी और सोनिया गांधी
Image caption प्रणव मुखर्जी ने कहा कि वो तथ्यों की जाँच कर रहे हैं

आदर्श हाउसिंग सोसाइटी में कथित घोटाले की जाँच कर रही कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रणव मुखर्जी और एके एंटनी की समिति की रविवार देर रात बैठक हुई.

बैठक के बाद पत्रकारों से बातचीत में प्रणव मुखर्जी ने कहा कि हम इस मामले से संबंधित दस्तावेज़ों की जाँच कर रहे हैं और हमें इसके लिए और वक़्त चाहिए.

उनका कहना था कि इस मामले को लेकर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को इस्तीफ़े की पेशकश की थी और उस संबंध में फ़ैसला लिया जाना है.

ग़ौरतलब है कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण मुंबई में पूर्व सैनिकों और युद्ध में मारे गए लोगों की विधवाओं के लिए बनी आदर्श नगर सोसाइटी में कथित घोटाले में अपना नाम आने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाक़ात करके इस्तीफ़े की पेशकश की थी.

इस्तीफ़े की पेशकश

अशोक चव्हाण ने पत्रकारों से बातचीत में कहा था कि उन्होंने सोनिया गांधी को पूरी सच्चाई से अवगत करा दिया है.

अशोक चव्हाण ने कहा, "मैंने पूरी जानकारी सोनियाजी को दे दी है. जो भी तथ्य हैं, उन्हें सामने रखा है. मैंने कहा है कि ज़मीन राज्य सरकार की है. लेकिन मैंने अपने इस्तीफ़े की पेशकश की है. अब उनसे कहा है कि इस पर आख़िरी फ़ैसला करें."

उल्लेखनीय है कि मुंबई के महंगे कोलाबा इलाक़े में स्थित 31 मंज़िला आदर्श नगर सोसाइटी के बारे में कहा जा रहा है कि ये ज़मीन पूर्व सैनिकों और युद्ध में मारे गए लोगों की विधवाओं के लिए थी, लेकिन प्रभावशाली लोगों ने इस ज़मीन को हड़पकर बड़ी इमारत खड़ी कर दी.

इसमें मकान पानेवालों में पूर्व सेनाध्यक्षों के अलावा कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना के नेता शामिल हैं.

रिपोर्टों में ये भी कहा गया है कि इस बिल्डिंग में मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण के दो रिश्तेदारों के भी मकान हैं.

इस इमारत के बारे में ये भी कहा जाता है कि इसे बनाने के लिए कई नियमों का उल्लंघन किया गया था.

आरोप ये भी है कि इस इमारत की मात्र छह मंज़िलें बननी थीं लेकिन नियमों को ताक़ पर रखकर इसे 31 मंज़िला बना दिया गया.

संबंधित समाचार