अजमेर मामले में एक और गिरफ़्तारी

  • 4 नवंबर 2010
अजमेर दरगाह
Image caption इस मामले में बुधवार को भी एक व्यक्ति को गिरफ़्तार किया गया था.

राजस्थान पुलिस ने अजमेर ब्लास्ट मामले मे गुजरात के गोधरा से एक और गिरफ़्तारी की है.

पुलिस के अनुसार गिरफ़्तार किए गए गोधरा के मुकेश वासानी वो व्यक्ति है जिसने 11 अक्टूबर ,2007 को अजमेर की पवित्र दरगाह में बम रखा था.

वासानी को गिरफ़्तार कर लिया गया है. ये अजमेर धमाको में पांचवी गिरफ्तारी है. इन धमाको ने तीन लोगो की जान ले ली थी.

पुलिस की इस कार्रवाई से ये इशारा मिला है कि इन धमाको में हिन्दू संगठनों के सदस्यों का गुजरात और राजस्थान के बीच समन्वय बना हुआ था.

इससे पहले पुलिस ने वडोदरा के हर्षद सोलंकी को गिरफ्तार किया था. सोलंकी गुजरात में वर्ष 2002 में हुए दंगो के दौरान बेस्ट बेकरी काण्ड का आरोपी है. उससे पूछताछ में मुकेश के बारे में पता लगा.

राज्य में आतंकवाद विरोधी दस्ते के प्रमुख कपिल गर्ग के मुताबिक वासानी ने पूछताछ में बताया कि मध्य प्रदेश के स्वर्गीय सुनील जोशी ने उसे ही दरगाह में बम रखने का काम सौंपा था.

मुकेश गोधरा में भवन निर्माण का ठेकदार है. वो हिन्दू संगठनों में सक्रिय रहा है.

पुलिस ने मुकेश को अजमेर की एक स्थानीय अदालत के सामने पेश किया जहां से उसे नौ नवम्बर तक के लिए पुलिस को सौंप दिया गया. पुलिस उससे पूछताछ कर रही है. पुलिस सूत्रों के मुताबिक अभी कुछ और नाम भी सामने आ सकते है.