ओबामा से अभिभूत भारतीय मीडिया

  • बराक ओबामा
    अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा भारत यात्रा के दूसरे चरण में दिल्ली पहुँचे (एएफ़पी)
  • बराक ओबामा
    बराक ओबामा ने भारतीय संसद को संबोधित किया. भाषण के दौरान कई बार करतल ध्वनि सुनाई पड़ी (एएफ़पी)
  • बराक ओबामा
    अपने संबोधन में ओबामा ने जम कर भारत की तारीफ़ की. उन्होंने भारत को एक उभर चुकी ताक़त कहा (रॉयटर्स)
  • बराक ओबामा
    संसद को संबोधित करने से पहले उन्होंने संसद भवन में रखी गोल्डन बुक पर अपना संदेश लिखा (रॉयटर्स)
  • बराक ओबामा
    अपने संबोधन के दौरान ओबामा गाँधी, टैगोर, आंबेडकर और विवेकानंद को याद करना नहीं भूले (रॉयटर्स)
  • बराक ओबामा
    ओबामा ने कहा कि उनकी ज़िदगी पर महात्मा गाँधी के दर्शन की छाप है और वे उनसे काफ़ी प्रभावित हैं (रॉयटर्स)
  • बराक ओबामा
    ओबामा का स्वागत करते हुए उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने कहा कि भारत और अमरीका दोनों पृथ्वी पर दूर हैं लेकिन चुनौतियाँ एक जैसी हैं (रॉयटर्स)
  • बराक ओबामा
    संसद के संबोधन से दौरान वाम दलों और अन्य राजनेताओं सहित कई गणमान्य लोग उपस्थित थे (रॉयटर्स)
  • बराक ओबामा
    बराक ओबामा और उनकी पत्नी मिशेल ने गाँधी जी की समाधि पर जाकर उन्हें नमन किया (रॉयटर्स)
  • बराक ओबामा
    संसद को संबोधित करने से पहले ओबामा और भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पत्रकारों को संबोधितकिया (गेटी)
  • बराक ओबामा
    संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थाई सदस्यता का ओबामा ने समर्थन किया है (गेटी)

भारत के सभी अख़बार अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के संसद में दिए भाषण से अभिभूत नज़र आ रहे हैं. अख़बारों के पहले पन्ने अबोमा की ख़बरों से भरे हुए हैं.

खास चर्चा है ओबामा के हिंदी में कहे कुछ शब्दों की. दैनिक हिंदुस्तान ने तो इसे ही शीर्षक बनाते हुए लिखा है- धन्यवाद, जयहिंद.

सभी अख़बारों ने काफ़ी रोचक शीर्षकों के ज़रिए अमरीकी राष्ट्रपति की भारत यात्रा और उपलब्धियों को जगह दी है.

इसके पहले उनकी मुंबई यात्रा को लेकर ख़बरों में तल्ख़ी का स्वर नज़र आ रहा था लेकिन मंगलवार को अख़बारों ने उनकी तारीफ़ों के पुल बांधे हैं.

अमर उजाला की सुर्खी है- ओबामा ने किया निहाल.

अख़बार लिखता है कि राष्ट्रपति ओबामा ने सुरक्षा परिषद में स्थाई सीट और पाकिस्तान से आतंकवादी ठिकाने ख़त्म करने की पैरवी कर खुश किया.

अमर उजाला का कहना है कि संसद में अपने प्रभावशाली संबोधन से ओबामा ने भारतीयों का दिल जीत लिया.

हिंदुस्तान का शीर्षक है- धन्यवाद, जय हिंद.

अख़बार लिखता है कि ओबामा ने 'धन्यवाद' कहकर मेहमाननवाज़ी के लिए शुक्रिया अदा किया और अपने भाषण का अंत 'जय हिंद' कहकर किया तो तालियों की गड़गड़ाहट से संसद का कक्ष गूंज उठा.

नवभारत टाइम्स का शीर्षक है- जय हिंद, भारत को ओबामा का सलाम.

अख़बार लिखता है कि अमरीकी राष्ट्रपति ने रिश्तों को नई ऊंचाई देने की राह खोल दी है.

हिंदुस्तान टाइम्स की हेडिंग है- ओबामा बैक्स यूएनएससी बिड, स्लैम्स पाकिस्तान यानि ओबामा ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थाई सदस्यता का समर्थन किया और पाकिस्तान को आड़े हाथों लिया.

अख़बार का कहना है कि ओबामा ने भारत की स्थाई सदस्या की माँग का समर्थन करके सबको अचंभित कर दिया.

अख़बार लिखता है कि ऐसा लग रहा था कि राष्ट्रपति ओबामा की उंगलियों पर अंबेडकर और चांदनी चौक जैसी जगहें थीं.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया लिखता है कि जय हो बराक ओबामा!

अख़बार लिखता है कि बराक ओबामा ने संसद में अपने भाषण में दिल को छू देने वाली बातों को उठाया. उन्होंने धन्यवाद दिया, गांधी, अंबेडकर, विवेकानंद का जिक्र किया और पंचतंत्र का भी उल्लेख किया.

अख़बार ने बराक ओबामा और भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की तस्वीर के साथ बॉक्स में उन मुद्दों की चर्चा की है जो ओबामा की भारत यात्रा के दौरान उठीं जैसे चरमपंथ, पाकिस्तान, कश्मीर और नौकरियां.

अखबार ने ओबामा की पत्नी मिशेल ओबामा की हार पहनती तस्वीर भी छापी है और लिखा है कि ओबामा जब राष्ट्रीय हित के मसलों पर भारतीय नेताओं से मुलाक़ात कर रहे थे तो मिशेल क्राफ्ट म्यूजियम में क्रिसमस की ख़रीदारी में व्यस्त थीं.

दैनिक जागरण ने शीर्षक लगाया है- जय हिंद.

अख़बार लिखता है कि भारत की ताक़त को ओबामा का समर्थन.

जागरण का कहना है कि भारत-अमरीका की दोस्ती का कारवाँ अब नई मंज़िलों की ओर बढ़ गया है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.