गुरु-चेले का नया रिश्ता

पहलवान सुशील कुमार
Image caption विश्व चैंपियन और ओलंपिक पदक विजेता पहलवान सुशील कुमार की अपने गुरु सतपाल की बेटी से शादी होने वाली है.

ओलंपिक पदक विजेता और विश्व चैंपियन पहलवान सुशील कुमार और उनके गुरु सतपाल अब ससुर-दामाद बन गए हैं.

सोमवार को सुशील और गुरु सतपाल की बेटी सवि से सगाई हुई. दोनों 18, फ़रवरी 2011 को शादी के बंधन में बंधेंगे.

बीबीसी ने सुशील कुमार और गुरु सतपाल से बात की.

ये पूछने पर कि अब उनके और उनके गुरु के रिश्ते में क्या कोई बदलाव आएगा, बहुत कम बोलने वाले सुशील कुमार ने अपने चिर-परिचित अंदाज़ में कहा, “गुरुजी बचपन से ही बहुत प्यार देते थे. तो रिश्ता तो वही रहेगा.”

सतपाल भी कहते हैं, “हमारे रिश्ते में कोई बदलाव नहीं आया है. मैं तो पहले भी सुशील को अपना बेटा मानता था. अब दामाद बन गया है तो अब भी वो मेरा बेटा ही रहेगा.”

परिवारों का फ़ैसला

आज के ज़माने में ज़्यादातर लड़का-लड़की अपनी शादी के बारे में फ़ैसला लेते हैं लेकिन सुशील कहते हैं कि इस बारे में फ़ैसला उनके माता-पिता का था. वो कहते हैं, “मुझे बहुत अच्छा लग रहा है. इस बारे में माता-पिता ने फ़ैसला किया. मैं उनके आदेश का पालन कर रहा हूं.”

अपनी मंगेतर सवि के बारे में सुशील कहते हैं, “वो बहुत अच्छी हैं. क्योंकि वो ऐसे परिवार से हैं जो खेल से जुड़ा है और उन्होंने वो माहौल देखा है, तो परिवार ने सोचा कि यही सही रहेगा.”

गुरु सतपाल ने बीबीसी को बताया, “हालांकि मैं सुशील और उनके परिवार को लंबे समय से जानता हूं लेकिन मैंने कभी नहीं सोचा था कि हम ऐसे रिश्ते में जुड़ जाएंगे. लेकिन जब सुशील और सवि बड़े हुए तो दोनों परिवारों ने इनकी शादी के बारे में फ़ैसला लिया.”

सुपरस्टार दामाद

किसी भी आम पिता की ही तरह सतपाल भी इतने मशहूर दामाद पाने पर ख़ुश हैं. वो कहते हैं, “मैं तो एक पिता हूं. मैं बहुत ख़ुश हूं कि ऐसा दामाद मिला है जो एक सुपरस्टार होने के बावजूद आज भी ज़मीन से जुड़ा है.”

इस सगाई में कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी, भारतीय जनता पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राजनाथ सिंह, कांग्रेस नेता ऑस्कर फ़र्नाडिस, क्रिकेटर कपिल देव, पूर्व हॉकी खिलाड़ी ज़फ़र इक़बाल, पूर्व तैराक खजान सिंह और राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता पहलवान रविन्दर कुमार और नरसिंह यादव जैसे कई बड़े नाम शामिल हुए.

सतपाल कहते हैं, “मेरी शादी में राजीव गांधी आए थे और आज वो बात दोहराई गई. जिस तरह राहुल गांधी आए और बच्चों को प्यार दिया, बहुत ख़ुशी हुई.”

संबंधित समाचार