दिल्ली की 38 इमारतों को नोटिस

दिल्ली में ढही इमारत

पूर्वी दिल्ली में सोमवार को एक इमारत गिरने के बाद दिल्ली नगरपालिका ने बुधवार को इस क्षेत्र की 38 इमारतों को असुरक्षित घोषित करते हुए 24 घंटों के भीतर खाली करने का नोटिस जारी किया है.

इमारत के गिरने से मरने वालों की संख्या अब 66 हो गई है.

दिल्ली की स्वास्थ्य मंत्री किरण वालिया ने कहा है कि दुर्घटना में घायल 130 लोगों में से अधिकतर को लोकनायक जयप्रकाश अस्पताल में भर्ती करवाया गया है.

इसके अलावा दिल्ली के ही लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल, हेडगेवार अस्पताल औऱ गुरू तेग़बहादुर अस्पताल में भी घायलों का उपचार चल रहा है.

पुलिस और दमकल विभाग अब भी मलबे में लोगों के फंसे होने की आशंका जता रहे हैं.

इसी बीच गिरने वाली इमारत के मालिक अमृतपाल सिंह को पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया है. अमृतपाल सिंह के ख़िलाफ़ ग़ैर-इरादत हत्या का मामला दर्ज किया गया है.

एजेंसियों के मुताबिक़ अमृतपाल सिंह के ख़िलाफ़ पहले से ही क़रीब 21 मामले चल रहे हैं और उन्हें इससे पहले 20 बार गिरफ़्तार किया गया है.

इमारतों को नोटिस

मंगलवार दिल्ली नगरपालिका इन गिरने वाली इमारत के दो और इमारतों को खाली करवा लिया है. इन दो इमारतों सहित इस क्षेत्र की 38 इमारतों की खाली करवाने का नोटिस जारी किया गया है.

बताया गया है कि इन सभी इमारतों की बेसमेंट में पानी भरा हुआ है.

Image caption इस हादसे में कई परिवार तो पूरी तरह तबाह हो गए हैं.

खाली कराई गई इमारतों में से एक अमृतपाल सिंह की है, जिसकी 5 मंज़िला इमारत सोमवार की रात ढही थी.

गिरने वाली इमारत में रह रहे लगभग 60 परिवारों में से अधिकतर पश्चिम बंगाल से आए मज़दूर थे.

दिल्ली सरकार ने मृतकों के परिजनों को दो लाख और घायलों को एक लाख रूपए का मुआवज़ा देने का ऐलान किया है. दुर्घटना पर मेजिस्ट्रेट की जांच के आदेश दे दिए गए हैं.

दिल्ली के शहरी विकास मंत्री एके वालिया ने कहा है कि इमारत के गिरने की वजह उसकी यमुना तट से नज़दीकी और बेसमेंट में पानी के भरा होना हो सकती है.

नेशनल डिज़ास्टर रेपॉन्स फ़ोर्स, दमकल विभाग, पुलिस विभाग और स्थानीय लोग अब भी मलबा हटाने में जुटे हुए हैं.

संबंधित समाचार