रोसैया ने इस्तीफ़े की घोषणा की

के रोसैया
Image caption रोसैया राज्यपाल को इस्तीफ़ा देने जा रहे हैं

आंध्र प्रदेश के कांग्रेसी मुख्यमंत्री के रोसैया ने अपने पद से इस्तीफ़ा देने की घोषणा की है.

उन्होंने कहा है कि अपनी बढ़ती उम्र और काम के बोझ की वजह से वे इस्तीफ़ा दे रहे हैं और इसके पीछे कोई राजनीतिक कारण नहीं है.

उन्होंने यह ज़रुर कहा कि आलाकमान ने ही उन्हें कुर्सी सौंपी थी और वे फिर आलाकमान के आदेश के आगे सर झुका रहे हैं.

माना जा रहा है कि दिवंगत मुख्यमंत्री राजशेखर रेड्डी के बेटे जगन मोहन रेड्डी की विद्रोही गतिविधियों पर रोक न लगा पाने की वजह से आलाकमान ने उन्हें हटाने का फ़ैसला किया है.

कांग्रेस ने शाम को विधायक दल की बैठक बुलाई है जिसमें नए नेता का चयन किया जाएगा.

नया नेता कौन?

मुख्यमंत्री के रोसैया मंगलवार को दिल्ली में ही थे लेकिन वे सोनिया गाँधी से मिले बिना ही हैदराबाद लौट आए.

उनकी मुलाक़ात सोनिया गांधी के राजनैतिक सचिव अहमद पटेल से हुई थी. रोसैया के हैदराबाद लौटने के तुरंत बाद ही कांग्रेस विधायक दल की बैठक बुलाने का फ़ैसला हुआ.

तभी से यह अटकलें लगाई जा रही थीं कि के रोसैया को पद छोड़ने के लिए कहा जा सकता है.

बुधवार की शाम को उन्होंने अपने पद से इस्तीफ़ा देने की घोषणा कर दी.

अगले नेता के चयन के लिए प्रदेश के प्रभारी वीरप्पा मोइली और वरिष्ठ नेता प्रणब मुखर्जी हैदराबाद पहुँच रहे हैं.

अटकलें है कि नेता पद की दौड़ में दो नेता शामिल हैं. इनमें से एक किरण कुमार रेड्डी हैं जो इस समय विधानसभा के अध्यक्ष हैं और दूसरे केंद्रीय मंत्री जयपाल रेड्डी हैं.

कहा जा रहा है कि तेलंगाना के मुद्दे को कुछ शांत करने के लिए उस क्षेत्र से कांग्रेस की नेता गीता रेड्डी को उपमुख्यमंत्री बनाया जा सकता है.

जगन का विद्रोह

Image caption जगन मोहन ने पार्टी के आदेशों की अवहेलना करके प्रदेश भर में पदयात्राएँ की हैं

गत कुछ दिनों से राज्य में कांग्रेस पार्टी में एक ज़बरदस्त बवाल मचा हुआ है.

लोकसभा सदस्य जगन मोहन रेड्डी के टीवी चैनल साक्षी ने एक ऐसी रिपोर्ट प्रसारित की है जिसमें सीधे सोनिया गाँधी को निशाना बनाया गया है और उन्हें एक विफल नेता बताया गया है.

इस के बाद से प्रदेश कांग्रेस के कई नेता जगन मोहन के विरुद्ध कार्रवाई की मांग कर रहे हैं.

आला कमान पहले ही इस पूरे मामले में रिपोर्ट मांग चुकी है और स्वयं मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने केंद्रीय नेतृत्व को रिपोर्ट दे दी है जिसमें जगन की तमाम विरोधी गतिविधियों का ब्यौरा दिया गया है.

सूत्रों का यह भी पार्टी यह भी अनुमान लगाना चाहती है कि पार्टी में कितने विधायक और सांसद जगन मोहन रेड्डी के साथ हैं और उसके बाद ही जगन के विरुद्ध कार्रवाई का फ़ैसला किया जाएगा.

वैसे पार्टी इस संभावना के लिए भी तैयार है कि एक दर्जन के आसपास विधायक जगन का साथ देंगे.

उस सूरत में कांग्रेस ने चिरंजीवी की प्रजा राज्यम पार्टी से समर्थन लेने की तैयारियाँ कर ली हैं ताकि उस की सरकार अल्पमत में न आए. महत्वपूर्ण बात यह है कि मंगलवार को ही चिरंजीवी भी दिल्ली में थे और उन्होंने प्रधानमंत्री से मिलकर राज्य की सिंचाई परियोजनाओं पर बात की थी.

चिरंजीवी पहले ही यह कह चुके हैं कि ज़रुरत पड़ने पर उनकी पार्टी कांग्रेस का समर्थन करेगी.

संबंधित समाचार