गैंग रेप मामले में दो गिरफ़्तार

  • 2 दिसंबर 2010
Image caption दिल्ली की गिनती महिलाओं के लिए असुरक्षित शहरों में होती है.

दिल्ली में पिछले हफ़्ते एक कॉल सेंटर में काम करनेवाली महिला के साथ हुए सामूहिक बलात्कार के मामले में दो लोगों को गिरफ़्तार किया है.

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के अनुसार एक तीसरे अभियुक्त ने हरियाणा की एक अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया है.

पुलिस का कहना है कि वो दो और अभियुक्तों की तलाश कर रहे हैं.

मिज़ोरम की इस 30-वर्षीय महिला को पिछले हफ़्ते रात एक एक बजे उनके घर के पास से अगवा कर लिया गया था. महिला अपने दफ़्तर से लौट रही थी और ऑफ़िस की टैक्सी ने उन्हें और उनकी सहेली को घर से कुछ दूर उतारा था.

महिला ने पुलिस को बताया कि कुछ लोगों ने उन्हें घसीटकर एक टेंपोनुमा ट्रक में बिठा लिया और कई लोगों ने लगातार उनके साथ बलात्कार किया.

महिला की सहेली वहां से भागने में कामयाब रहीं और उन्होंने ही पुलिस को हादसे के बारे में इत्तिला दी.

पुलिस का कहना है कि गिरफ़्तार किए गए लोग आपराधिक पृष्ठभूमि के हैं और पहले हुए एक सामूहिक बलात्कार के मामले में भी ये शामिल थे.

दो अभियुक्तों को हरियाणा के मेवात इलाके से कल रात पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया था.

पुलिस ने इस मामले में अभियुक्तों की जानकारी के लिए एक लाख रूपए का ईनाम भी घोषित किया था और लगभग 25 टीमें इस मामले की छानबीन में लगी हुई थीं.

दिल्ली और गुड़गांव में कई कॉलसेंटर चलते हैं जहां काफ़ी तादाद में महिलाएं काम करती हैं.

दिल्ली को वैसे भी महिलाओं के लिए सबसे ज़्यादा असुरक्षित शहरों में से एक माना जाता है.

संबंधित समाचार