करकरे की मौत पर सवाल

दिग्विजय सिंह
Image caption दिग्विजय सिंह पहले भी हिंदूत्व संगठनों के ख़िलाफ़ बयान देते रहे हैं

कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने दावा किया है कि मालेगाँव बम घमाकों की जाँच कर रहे महाराष्ट्र विशेष पुलिस दल (एटीएस) के पूर्व प्रमुख हेमंत करकरे ने उन्हें मुंबई हमलों के कुछ घंटे पहले फ़ोन पर कहा था कि 'वे लगातार मिलने वाली धमकियों से परेशान हैं'.

दिग्विजय सिंह के अनुसार हेमंत करकरे का कहना था कि उन्हें ये धमकियाँ उन लोगों से मिल रही हैं जो मालेगाँव धमाकों की जाँच का विरोध कर रहे हैं.

हेमंत करकरे अपने अन्य साथियों समेत मुंबई हमलों के दौरान मारे गए थे.कांग्रेस पार्टी ने कहा है कि ये दिग्विजय सिंह की निजी राय है और पार्टी की नहीं.

मालेगाँव धमाकों की जाँच के दौरान ये सामने आया था कि इन धमाकों की योजना बनानेवाले और अंजाम देनेवाले लोगों का संबंध हिंदूत्व विचारधारा से जुड़ी संस्थाओं से था.

एटीएस ने इस सिलसिले में कई लोगों को गिरफ्तार किया था जिसमें हिंदू धार्मिक गुरु साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर, अभिनव भारत नाम का संगठन चलाने वाले समीर कुलकर्णी और भारतीय सेना के पूर्व अधिकारी शामिल थे.

साक्षात्कार

सितंबर 2008 में महाराष्ट्र के मालेगाँव की एक मस्जिद के बाहर हुए धमाके में चार लोग मारे गए थे और बड़ी संख्या में लोग घायल हुए थे.

मालेगाँव मामले में एटीएस की जाँच के बाद से भारत में हो रहे चरमपंथी हमलों के संबंध में एक नया पहलू सामने आया. इस जाँच से पहले हाल के वर्षों के लगभग सभी हमले महज़ मुस्लिम चरमपंथ से जुड़े समझे जाते थे.

अंग्रेज़ी अख़बार द इंडियन एक्सप्रेस को दिए गए साक्षात्कार में कही गई इन बातों को कांग्रेस महासचिव ने फिर से दोहराया है और कहा है कि हेमंत करकरे अपनी ईमानदारी और विश्वसनीयता पर उठाए गए सवालों को लेकर हतोत्साहित थे.

दिग्विजय सिंह ने कहा, "आपको याद होगा कि भारतीय जनता पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राजनाथ सिंह समेत पार्टी के कई बड़े नेताओं नें हेमंत करकरे की ईमानदारी, विश्वसनीयता और निष्ठा पर कई सवाल उठाए थे."

उन्होंने कहा कि हेमंत करकरे को बार-बार गुमनाम फ़ोन के ज़रिए धमकी दी जा रही थी कि उन्होंने ये गिरफ्तारियाँ क्यों की हैं?

भाजपा ने दिग्विजय सिंह के इस बयान को घोटालों के आरोप झेल रही कांग्रेस सरकार द्वारा ध्यान बटाने की कोशिश बताया है.

पार्टी प्रवक्ता रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि दिग्विजय सिंह का बयान दुर्भाग्यपूर्ण है और उन्हें सुर्खियों में आने के लिए देश की सुरक्षा से ख़िलवाड़ नहीं करना चाहिए.

विकीलीक्स

इसी बीच ख़ुफ़िया दस्तावेज़ छापने वाली वेबसाइट विकीलीक्स पर कहा गया है कि कांग्रेस पार्टी मुंबई हमलों को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश कर रही थी.

विकीलीक्स पर डाले गए दस्तावेज़ के मुताबिक़ 2008 में भारत मे अमरीका के राजदूत डेवि़ड मलफर्ड ने मुंबई हमलों से संबधित एक राजनयिक संदेश में कहा था कि हमलों को लेकर कांग्रेस का रवैया बड़ा ढुलमुल है.

दिसंबर 2008 के इस संदेश में कहा गया है," हालांकि खुद केन्द्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम ने संसद के पटल पर कह दिया है कि इस बात में कोई सच्चाई नहीं है कि हमला किसी षडयंत्र का नतीजा थी फिर भी कांग्रेस के कुछ नेता एटीएस चीफ़ हेमंत करकरे की मौत को एक साज़िश बता रहे हैं जिससे लोगों को लगेगा कि करकरे को मारने वालों और आतंकवादियों में कोई सांठ-गांठ थी."

अल्पसंख्यक मामलों के पूर्व केन्द्रीय मंत्री एआर अंतुले ने हेमंत करकरे की मौत के बाद कहा था कि वे आतंकवाद का शिकार हुए थे या आतंकवाद के साथ साथ किसी और बात के ये मैं नहीं जानता.

संबंधित समाचार