एक और राजनयिक की जाँच !

  • 13 दिसंबर 2010
हरदीप पुरी
Image caption हरदीप पुरी ने कहा है कि उन्हें रोका ज़रुर गया था लेकिन उनकी जामा तलाशी नहीं हुई

अमरीका में भारतीय राजदूत मीरा शंकर की सुरक्षा तलाशी का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था कि एक और राजनयिक के साथ ऐसे ही व्यवहार का मामला सामने आ गया है.

इस बार अमरीकी सुरक्षा अधिकारियों के दुर्व्यवहार का शिकार हुए हैं संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थाई प्रतिनिधि हरदीप पुरी.

ख़बरें हैं कि टेक्सस के हवाई अड्डे पर पुरी की पगड़ी की तलाशी ली गई.

भारत की ओर से इस बार भी विरोध दर्ज करवाया गया है और अमरीका को अपनी सुरक्षा जाँच प्रक्रिया पर पुर्विचार करना चाहिए.

हालांकि एक टेलीविज़न चैनल से बात करते हुए हरदीप पुरी ने कहा है कि उन्हें तलाशी के रोका ज़रुर गया था और उनकी पगड़ी को छूकर तलाशी की बात कही गई थी लेकिन नए नियमों का हवाला देने के बाद उनकी पगड़ी की जाँच नहीं ली गई."

उनका कहना था, " जाँच अधिकारियों को इस नए नियमों की जानकारी नहीं थी और जानकारी मिलने के बाद उन्होंने माफ़ी मांग ली और मुझे जाने दिया गया."

उन्होंने कहा, "मैं इस मामले को आगे नहीं खींचना चाहता, यह बात यहीं ख़त्म हो गई है."

हरदीप पुरी का कहना है कि यह एक महीने पहले की घटना है

मामला

Image caption मीरा शंकर की जामा तलाशी के मामले को लेकर अमरीका ने खेद जताया था

हरदीप पुरी का कहना है कि नए नियमों के अनुसार कोई यात्री चाहे तो जामा तलाशी या हाथ से तलाशी लिए जाने से इनकार कर सकता है.

भारतीय राजदूत मीरा शंकर की तलाशी कथित रुप से इसलिए ली गई थी क्योंकि उन्होंने साड़ी पहन रखी थी.

मिसिसिपि हवाई अड्डे पर जाँच अधिकारियों ने यह कागज़ात दिखाए जाने के बावजूद उनकी तलाशी ली.

इस बार टेक्सस के हवाई अड्डे पर हरदीप पुरी को रोककर उनकी पगड़ी की तलाशी लेने की बात कही गई.

एक तो राजनयिक होने के नाते उनकी इस तरह की जाँच नहीं होनी चाहिए, दूसरे सिख संप्रदाय में पगड़ी को इस तरह से उतारकर तलाशी लेना अपमानजनक माना जाता है.

मीरा शंकर की तलाशी के मामले में भारत ने अमरीका के उप राजदूत को बुलाकर विरोध दर्ज करवाया था.

अमरीकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने ख़ुद मीरा शंकर से खेद ज़ाहिर करते हुए कहा था कि वह सुनिश्चित करेंगीं कि भविष्य में ऐसा न हो.

इस बार जब हरदीप पुरी को तलाशी के लिए रोके जाने का मामला सामने आया तो भारत के विदेश मंत्री एसएम कृष्णा ने कहा है कि वे अमरीकी प्रशासन के साथ यह मामला उठाएँगे और अनुरोध करेंगे कि वे राजनयिकों की जाँच नियमों की समीक्षा करें.

संबंधित समाचार