आंदोलन पर उतरे गूजर

गूजर समुदाय
Image caption आरक्षण को लेकर गूजर कई बार आंदोलन कर चुके हैं.

राजस्थान में आरक्षण की मांग को लेकर गूजर फिर आन्दोलन पर उत्तर आए है और दिल्ली को मुंबई को जोड़ने वाले रेल मार्ग को अवरुद्ध कर दिया है.

प्राप्त ख़बरों के अनुसार गूजरों ने राजस्थान के भरतपुर जिले में रेल यातायात बाधित कर दिया है जिसके कारण कम से कम दो रेलगाड़िया रास्ते में अटक गई है. इनमें दिल्ली से चली जन शताब्दी एक्सप्रेस भी है.

गुज्जर अपने लिए सरकारी नौकरियो में पांच फीसदी आरक्षण की मांग कर रहे है.

सरकारी सूत्रों ने बताया कि गूजर नेताओ ने भरतपुर जिले में अचानक रेल मार्ग पर आवाजाही रोक दी.

मौके पर मौजूद एक पुलिस अधिकारी ने बीबीसी को बताया कि एहतियात के तौर पर रेलगाड़ियो का परिचालन रोका गया है.जन शताब्दी एक्सप्रेस को भरतपुर में रोका गया है.इस रेल में सवार एक यात्री ओमप्रकाश साहनी ने बीबीसी को बताया कि वो दिल्ली से कोटा जाने के लिए सवार हुए थे.मगर ये रेल भरतपुर में ही रोक दी गई है.

इससे पहले सरकार ने गूजर नेता किरोड़ी सिंह बैंसला को मनाने के बहुतेरे प्रयास किए मगर वो अपना कदम वापस लेने को तैयार नहीं हुए.

अधिकारियों का एक दल उनसे बात करने गया, मगर बैंसला ने कहा कि आन्दोलन जारी रहेगा.

सरकार ने राज्य में अभी एक लाख नौकरियो के लिए भर्ती अभियान चलाया है. गूजर इसमें अपनी बिरादरी के लिए पांच प्रतिशत आरक्षण मांग रहे है. सरकार की मुश्किल ये है कि हाई कोर्ट ने आरक्षण पर रोक लगा रखी है.

इस पर आगामी 22 दिसम्बर को सुनवाई होगी.

गुज्जर नेताओ ने ये आन्दोलन ऐसे वक्त शुरू किया है जब मुख्य मंत्री अशोक गहलोत अपने मंत्रियो के साथ कांग्रेस समेलन में भाग लेने दिल्ली गए हुए थे.

राज्य में गूजर अन्दोलन के दौरान अतीत में हिंसा हो चुकी है और सत्तर लोग मारे गए थे. इसीलिए लोग आन्दोलन के फिर से खड़ा होने से चिंतित है.

संबंधित समाचार