नौ घंटे तक राजा से सवाल-जवाब

  • 24 दिसंबर 2010
ए राजा

2-जी स्पैक्ट्रम मामले में केंद्रीय जाँच ब्यूरो (सीबीआई) के सामने पेश हुए पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा से नौ घंटे तक पूछताछ हुई. सीबीआई ने कुछ दिनों पहले उन्हें नोटिस जारी किया था.

सीबीआई ने क़रीब 22 हज़ार करोड़ के इस कथित घोटाले में एक साल पहले मामला दर्ज किया था. ए राजा पर आरोप है कि उन्होंने 2जी स्पैक्ट्रम आबंटन में नियमों का उल्लंघन किया.

राजा पर ये भी आरोप हैं कि उन्होंने दूरसंचार मंत्री रहते ऐसी कंपनियों पर मेहरबानी की, जो नियमों पर खरे नहीं उतर रहे थे.

शुक्रवार को नौ घंटे तक चली पूछताछ के बाद ए राजा ने कहा कि वे सीबीआई को पूरा सहयोग दे रहे हैं. उन्होंने इस मामले पर आगे कुछ भी कहने से इनकार किया. उनका कहना था कि अभी जाँच चल रही है, इसलिए उनका कुछ कहना उचित नहीं होगा.

केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) और नियंत्रक और महालेखा परीक्षक (सीएजी) ने अपनी रिपोर्ट में लाइसेंस बाँटने के तरीक़े की कड़ी आलोचना की थी.

पेशी

विपक्ष के बढ़ते दबाव के बीच पिछले महीने ए राजा ने दूरसंचार मंत्री के पद से इस्तीफ़ा दे दिया था.

शुक्रवार की सुबह साढ़े 10 बजे ए राजा सीबीआई के सामने पेश हुए. पिछले दिनों सीबीआई ने राजा और उनके सहयोगियों के कई ठिकाने पर छापा मारा था.

सीबीआई ने दावा किया था कि उन्हें इन छापों के दौरान कई अहम दस्तावेज़ हाथ लगे हैं और इनसे जुड़े लोगों से पूछताछ की आवश्यकता है.

पिछले दिनों एक याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि वो जाँच की ख़ुद निगरानी करेगा. कोर्ट ने 10 फरवरी से पहले जाँच की प्रगति रिपोर्ट सौंपने को भी कहा है.

संबंधित समाचार