तीखी हुई कांग्रेस-भाजपा की तकरार

Image caption सरकार इस बात को लेकर परेशान है कि 2जी मामले पर संसद में लगातार जारी हंगामे का असर आगामी बजट सत्र पर न पड़े.

2जी स्पेक्ट्रम मामले में सीबीआई की जांच जारी है और इस बीच सत्तारुढ़ कांग्रेस और विपक्षी दल भाजपा के बीच राजनीतिक तलवारें खिंच गई हैं.

कॉरर्पोरेट लॉबिस्ट नीरा राडिया और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के बीच संबंधों को लेकर कांग्रेस के दावों को गलत ठहराते हुए भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस से माफ़ी मांगने को कहा है.

भाजपा के प्रवक्ता रवि शंकर प्रसाद ने संवाददाताओं से बातचीत के दौरान कहा, '' कांग्रेस सदस्य अभिषेक मनु सिंघवी ने लाल कृष्ण आडवाणी पर निराधार आरोप लगाए कि वो राडिया ट्रस्ट के भूमि-पूजन समारोह में गए और यह ज़मीन एनडीए सरकार की ओर से दी गई थी.''

उन्होंने कहा कि ये ज़मीन असल में पेजावर स्वामी ट्रस्ट की है और नरसिम्हा राव सरकार के कार्यकाल के दौरान दी गई थी. प्रसाद ने कहा, ''हम चाहते हैं कांग्रेस इन झूठे आरोपों के लिए माफ़ी मांगे.''

भ्रष्टाचार की मार

रवि शंकर प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस पर जब भ्रष्टाचार की मार पड़ी तो उसने इस झूठ का सहारा लिया.

इस बीच पेजावर मठ की ट्रस्ट ने भी कांग्रेस के इन आरोपों का खंडन किया है.

ट्रस्ट ने एक विज्ञपति जारी कर कहा है कि दिल्ली के वसंत कुंज इलाके में स्थित पेजावर मठ के एक संस्थान के लिए ज़मीन दिलाने में कॉरपोरेट दलाल नीरा राडिया की कोई भूमिका नहीं थी और यह ज़मीन पूर्व प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव के कार्यकाल के दौरान दी गई थी.

मठ का कहना है कि यह सही है कि भूमि-पूजन समारोह में लाल कृष्ण आडवाणी मौजूद थे लेकिन इस समारोह में दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित भी मौजूद थीं. यह दिखाता है कि मठ अपने कार्य-व्यापार में पूरी तरह गैर-राजनीतिक है.

खिंच गई हैं तलवारें

इस विवाद को लेकर कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा, ''क्या वजह है कि नीरा राडिया और एनडीए सरकार के बीच संबंधों की चर्चा 10 साल बाद भी ताज़ा है.''

तिवारी ने कहा कि भाजपा नीरा राडिया के साथ अपने संबंधों को लंबे समय तक छिपा नहीं सकती.

सरकार इस बात को लेकर भी परेशान है कि 2जी मामले पर संसद में लगातार जारी हंगामे का असर आगामी बजट सत्र पर न पड़े.

संबंधित समाचार