कोहरे की मार, सरकार ने बदले नियम

मौसम विभाग के मुताबिक अगले दिनों में पारा दो डिग्री और नीचे जाने की संभावना है जिससे ठंड बढ़ेगी.

उत्तर भारत में घटते तापमान के बीच कोहरा बढ़ रहा है और दिल्ली सहित उत्तर भारत के कई इलाके घने कोहरे की चादर में हैं.

कोहरे की मार से दिल्ली में हवाई और रेल यातायात बुरी तरह से प्रभावित हुआ है. रविवार देर शाम से लेकर सोमवार सुबह तक कई ट्रेनें और हवाई सेवाएं बाधित रहीं.

यात्रियों को हो रही परेशानियों को कम करने के लिए रविवार को सरकार ने उड़ान संबंधी अपने नियमों में फेरबदल भी किए. नए नियमों के तहत बड़े विमानों के लिए दृश्यता की सीमा 170 से घटाकर 150 मीटर और छोटे विमानों के लिए 150 से घटाकर 125 मीटर कर दी गई है.

नागरिक उड्डयन मंत्रालय के अनुसार भारत में ऐसे पायलटों की पर्याप्त संख्या है जो 50 मीटर जैसी कम दृश्यता की परिस्थितियों में भी विमानों को सुरक्षित उतार सकते हैं. दृश्यता की सीमा में कटौती संबंधी ये नए नियम यात्रियों की सुरक्षा का ध्यान रखते हुए आवाजाही को आसान बनाएंगें.

ग़ौरतलब है कि दिल्ली में हाल ही में उन्नत तकनीक से लैस हवाई अड्डे बने हैं. इसके बावजूद हवाई यातायात में लगातार रुकावटें आ रही हैं और कोहरे के चलते बड़ी संख्या में उड़ाने रद्द हो रही हैं.

इस बीच नागरिक उड्डयन विभाग में मौसम के विशेषज्ञों का मानना है की कोहरे की चादर उत्तर भारत के कई और इलाकों तक फ़ैल सकती है.

फेल हुई तकनीक

दिल्ली के पालम हवाई अड्डे पर मौसम विशेषज्ञ आरके जैनामुनी के अनुसार, ''रविवार देर रात से ही घने कोहरे के चलते दृश्यता 100 मीटर से भी कम हो गई. ये वो स्थिति है जिसमें विमान उड़ान नहीं भर सकते.''

आने वाले दिनों में कोहरे की स्थिति को लेकर मौसम विशेषज्ञ जैनामुनी का कहना है, ''कोहरे की ये चादर हरियाणा से लेकर समूचे उत्तर भारत, लखनऊ और वाराणसी तक फैल सकती है. ये हालात कम से कम अगले दो दिन तक रहने की संभावना है.''

दिल्ली में रविवार को भी दृश्यता शून्य थी. दिन में कुछ हालात सुधरे लेकिन शाम होते होते फिर कोहरा छाने लगा. दिल्ली में रविवार सुबह घना कोहरा होने के कारण लगभग 75 घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उड़ानें प्रभावित हुई थीं.

इसकी वजह से दिल्ली से मुंबई, कोलकाता, जयपुर, अमृतसर और चंडीगढ़ की उड़ानों की आवाजाही में परेशानी पेश आई.

मौसम विभाग के मुताबिक अगले दिनों में पारा दो डिग्री और नीचे जाने की संभावना है जिससे ठंड बढ़ेगी.

संबंधित समाचार