'संघ में कट्टरपंथ की जगह नहीं'

मोहन भागवत
Image caption संघ का कहना है कि उन्होंने कट्टर लोगों को कभी संगठन में नहीं रखा

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत का कहना है कि संघ में कट्टरपंथियों के लिए कोई जगह नहीं है.

सूरत में एक रैली को संबोधित करते हुए भागवत का कहना था कि संघ ने हमेशा ही उन कार्यकर्ताओं को संगठन छोड़ने के लिए कहा है जिनके विचार कट्टर रहे हैं.

उल्लेखनीय है कि भारत में हुई कई चरमपंथी घटनाओं में अब संघ कार्यकर्ताओं के भी नाम आ रहे हैं.

संघ प्रमुख ने भगवा चरमपंथ से जुड़े सवालों पर कांग्रेस को भी निशाना बनाया और कहा कि सत्तारुढ़ दल ध्यान भटकाने वाले काम कर रही है.

उनका कहना था, ‘‘ कांग्रेस जानबूझ कर आतंकवाद के मुद्दे को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जोड़ रही है. ये ध्यान भटकाने का काम है. इसलिए उन्होंने हिंदू आतंकवाद जैसा शब्द गढ़ा है.’’

भागवत ने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि वो अपनी असफलताओं को छुपाने की कोशिश कर रही है. भागवत के अनुसार कांग्रेस को हाल में चुनावों में मिली असफलता हजम नहीं हो रही है.

उनका कहना था, ‘‘ सरकार अपने अस्तित्व के लिए लड़ रही है.उसका वोटबैंक ख़त्म हो रहा है. कांग्रेस चुनावों में हार रही है और अपनी हताशा में लोगों को बांटने की कोशिश कर रही है.’’

हाल ही में आरएसएस से जुड़े कुछ लोग गिरफ़्तार हुए हैं जिनके तार मालेगांव धमाके, मक्का मस्ज़िद धमाके और समझौता एक्सप्रेस में हुए धमाकों से जुड़े बताए जाते हैं.

मोहन भागवत के इन बयानों को इसी संदर्भ में देखा जा सकता है.

संबंधित समाचार