असीमानंद न्यायिक हिरासत में

  • 13 जनवरी 2011
समझौता धमाका
Image caption समझौता एक्सप्रेस धमाके में 68 लोग मारे गए थे

पंचकुला की एक अदालत ने समझौता एक्सप्रेस धमाके के मामले में गिरफ़्तार स्वामी असीमानंद को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है.

उन्हें 27 जनवरी को फिर अदालत में पेश किया जाएगा.

अभी तक असीमानंद राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (एनआईए) की हिरासत में थे और एनआईए उसने पूछताछ कर रही थी.

एनआईए ने असीमानंद का बयान रिकॉर्ड करने के लिए आवेदन भी किया है.

संदिग्ध

महाराष्ट्र की आतंकवाद निरोधक शाखा भी मालेगाँव धमाके के सिलसिले में असीमानंद से पूछताछ करना चाहती है.

पिछले साल 19 नवंबर को असीमानंद को अजमेर, हैदराबाद और समझौता एक्सप्रेस धमाके के मामले में गिरफ़्तार किया गया था.

असीमानंद को साध्वी प्रज्ञा का भी क़रीबी माना जाता है, जो मालेगाँव धमाके की एक प्रमुख संदिग्ध हैं.

समझौता एक्सप्रेस धमाका 18 फरवरी 2007 को हुआ था, जिसमें 68 लोग मारे गए थे. असीमानंद गुजरात के दांग ज़िले में शबरीधाम आश्रम चलाते हैं.

पिछले दिनों पाकिस्तान ने भारत से समझौता एक्सप्रेस धमाके की जाँच रिपोर्ट मांगी थी. इस धमाके में मारे गए लोगों में ज़्यादातर पाकिस्तानी नागरिक थे.

संबंधित समाचार