महंगाई के ख़िलाफ़ माओवादियों का भारत बंद

नक्सली
Image caption माओवादी सात फ़रवरी को भारत बंद के अलावा चार से फ़रवरी तक विरोध प्रदर्शन भी करेंगे.

भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) नें बढ़ती महंगाई और घोटालों के ख़िलाफ़ सात फरवरी को चौबीस घंटों के भारत बंद का आहवान किया है. इसके अलावा संगठन नें चार से छह फ़रवरी तक देशव्यापी विरोध कार्यक्रमों की घोषणा भी की है.

इस की जानकारी संगठन की केंद्रीय समिति के प्रवक्ता अभय नें एक प्रेस बयान के ज़रिए दी है.

बयान में कहा गया है, "बढती हुई महंगाई,घोटालों और सरकारी आतंक के ख़िलाफ़ आगामी चार से छह फ़रवरी तक तीन दिनी देशव्यापी विरोध कार्यक्रमों और सात फ़रवरी को 24 घंटों के भारत बंद को सफल बनाएं."

माओवादी प्रवक्ता बयान में कहा गया है कि खाद्य पदार्थों की मुद्रास्फ्रीति की दर 18.5 से भी ऊपर हो गई है, उसपर पेट्रोल की क़ीमतों में बढ़ोतरी से निम्न और मध्यम वर्ग के लोग बेहाल हैं.

संगठन के प्रवक्ता अभय नें प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के उस बयान की आलोचना की है जिसमें कहा गया था कि देश में महंगाई इस लिए बढ़ रही है क्योंकि लोगों के पास पैसा आने से उनके ख़रीदने की क्षमता बढ़ गई है.

अभय का कहना है, "दरअसल वायदा कारोबार,जमाखोरी,कालाबाज़ारी, लुंज-पुंज सार्वजनिक जनवितरण प्रणाली आदि महंगाई की बुनियादी वजहों को हल करने में अपनी विफलता को छुपाते हुए वे ग़रीबों को ज्यादा खाने का दोषी ठहरा रहे हैं."

संबंधित समाचार