पाक लेखक को मिला जयपुर साहित्य पुरस्कार

  • 23 जनवरी 2011
एचएम नक़वी, पाकिस्तानी लेखक
Image caption सम्मान पाने के बाद नक़वी ने कहा कि वे इससे अभिभूत हैं

पाकिस्तानी लेखक एचएम नक़वी को पहले डीएससी दक्षिणी एशियाई साहित्य पुरस्कार से नवाज़ा गया है.

50 हज़ार डॉलर की रक़म वाले इस पुरस्कार की घोषणा इन दिनों जयपुर में चल रहे जयपुर साहित्य उत्सव के दूसरे दिन शनिवार को की गई.

इसके पहले नीलांजना की अगुवाई में जूरी ने एक एक करके सभी प्रतियोगी पुस्तकों को देखा और गूढ़ विचार के बाद नक़वी के उपन्यास 'होम बॉय' को पुरस्कार के लिए सिफ़ारिश की.

नक़वी का ये उपन्यास अमरीका में हुए चरमपंथी हमलों की घटना के बाद तीन पाकिस्तानी लड़कों की मुश्किलों और माहौल को बयान करता है.

नक़वी इस पुरस्कार को पाकर गदगद थे. सम्मान पाने के बाद उन्होंने कहा कि वे इससेअभिभूत हैं.

पांच दिनों तक चलने वाले इस साहित्यिक मेले की शुरूआत शुक्रवार को हुई. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इसका उदघाटन किया.

छठा साहित्यिक मेला

ये एशिया प्रशांत क्षेत्र में प्रमुख साहित्यिक मेले के रुप में मशहूर हो गया है. इसके लिए दुनिया भर से लेखक, साहित्यकार और संगीत से जुड़ी हस्तियां जयपुर पहुंचती हैं.

ये छठा ऐसा समागम है जिसमे अदब के लोग साहित्य और इससे जुड़ी ज़िन्दगी के रंगों पर बातचीत करेंगे.

इस समारोह का विस्तार देखकर कार्यक्रम स्थल 'डीगी पैलस' में आयोजकों ने इस बार बहुत बदलाव किए हैं और ऐसी तैयारियां की है कि यहाँ एक समय में लगभग साढ़े सात हज़ार लोग कार्यक्रम का आनंद ले सकेंगे.

इस बार इस फ़ेस्टिवल में 30,000 लोगों के आने का अनुमान है. छह साल पहले कोई दर्जन भर लेखक इसमें शामिल हुए थे. फिर जो सिलसिला शुरु हुआ तो वो बढ़ता ही चला गया. सलमान रशदी, इयान मैक्वान, विलियम डारलिंपल, हनीफ़ क़ुरेशी समेत कई प्रमुख लेखक इससे जुड़े.

समागम के लिए इस बार नोबेल पुरस्कार विजेता ओरहान पामुक और उनकी मित्र साहित्यकार किरण देसाई भी जयपुर में हैं.

आयोजन से जुड़े संजोय रॉय ने बीबीसी को बताया कि इस बार इस मेले में शिरकत करने वाले साहित्यकारों और लेखकों की तादाद बढ़ कर 223 तक जा पहुंची है. इसमें से 65 भारत के बाहर से आ रहे है.

इस समागम में कोई 85 संगीतकार भी शिरकत करेंगे.

आयोजकों ने इस बार इस समारोह में आंचलिक और प्रादेशिक देसज साहित्य को भी मौका देने का प्रयास किया है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार