कर्नाटक: राज्यपाल को हटाने की गुहार

  • 24 जनवरी 2011
आडवाणी
Image caption भाजपा का आरोप है कि राज्यपाल भारद्वाज अपनी निजी राजनीतिक महत्वकांक्षा को पूरा करने की कोशिश कर रहे हैं.

भारतीय जनता पार्टी के एक प्रतिनिधि मंडल ने सोमवार को राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल से मुलाक़ात कर कर्नाटक के राज्यपाल हंसराज भारद्वाज को वापस बुलाने की मांग की.

राष्ट्रपति से मिलने के बाद संवाददाताओं से बात करते हुए भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने कहा, ''भाजपा के नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने कर्नाटक के विधायकों का प्रतिनिधित्व करते हुए राष्ट्रपति से मांग की है वो कर्नाटक के हित में राज्यपाल हंसराज भारद्वाज को वापस बुला लें. हमने राष्ट्रपति से कहा है कि वो हमारे ज्ञापन पर कानूनी सलाह भी ले सकती हैं, लेकिन कर्नाटक को इस राज्यपाल से मुक्त कराना राज्य के भले के लिए ही होगा.

भाजपा का आरोप है कि राज्यपाल भारद्वाज अपनी निजी राजनीतिक महत्वकांक्षा को पूरा करने की कोशिश कर रहे हैं.

भाजपा प्रतिनिधि मंडल की अगुवाई पार्टी के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा में विपक्ष के नेता अरूण जेटली ने की.

राष्ट्रपति से मुलाक़ात के बाद पत्रकारों से बात करते हुए आडवाणी ने कहा कि भारद्वाज का आचरण पक्षपातपूर्ण है. उन्होंने राज्यपाल के पद की अवमानना की है.

इससे पहले रविवार को कर्नाटक के मुख्यमंत्री येदियुरप्पा दिल्ली पहुंचे और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं लालकृष्ण आडवाणी और अरुण जेटली से मुलाक़ात की.

राज्य में भूमि घोटाले में मुख्यमंत्री के कथित तौर पर शामिल होने के मुद्दे पर राज्यपाल भारद्वाज ने उनके ख़िलाफ़ अभियोजन की मंज़ूरी दे दी है.

इससे उत्पन्न राजनीतिक स्थिति से निपटने के लिए उन्होंने वारिष्ठ नेताओं से विचार-विमर्श किया.

सोमवार को ही बंगलौर की एक अदालत में मुख्यमंत्री येदियुरप्पा के ख़िलाफ़ केस दायर किया गया.

येदियुरप्पा की भाजपा के शीर्ष नेताओं से मुलाकात पार्टी प्रमुख नितिन गडकरी के उस बयान से एक दिन बाद हुई जिसमें उन्होंने अपनी चीन यात्रा के दौरान कहा कि येदियुरप्पा द्वारा अपने पुत्र के पक्ष में भूमि को अधिसूचना के दायरे से बाहर करना अनैतिक और अनुचित था.

.

संबंधित समाचार