चीन और संवेदनशीलता दिखाए: निरुपमा

निरुपमा राव
Image caption निरुपमा के मुताबिक़ चीन को और पारदर्शिता दिखानी चाहिए

भारत और चीन के जटिल रिश्तों को रेखांकित करते हुए भारतीय विदेश सचिव निरुपमा राव ने कहा है कि चीन को पाकिस्तान से जुड़े मुद्दे पर और संवेदनशील बनना चाहिए.

न्यूयॉर्क में एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कहा कि भारत पाकिस्तान के अन्य देशों के साथ रिश्तों के ख़िलाफ़ नहीं है, लेकिन भारत को चीन और पाकिस्तान के रिश्तों के कुछ पहलुओं पर चिंता अवश्य है.

निरुपमा राव ने स्पष्ट किया कि पाकिस्तान के परमाणु कार्यक्रम के लिए चीन का समर्थन ऐसा क्षेत्र है, जिसमें भारत और पारदर्शिता और स्पष्टता चाहता है. उन्होंने कहा कि भारत इस मुद्दे पर खुली बहस का स्वागत करता है.

भारतीय विदेश सचिव ने यह भी स्पष्ट किया कि जम्मू-कश्मीर के निवासियों को नत्थी वीज़ा जारी करने की चीन की नीति पर भारत को कड़ी आपत्ति है.इसके अलावा पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर में उसकी उपस्थिति भी चिंता का विषय है.

कोशिश

निरुपमा राव ने कहा, "भारत और चीन के रिश्ते और मज़बूत हो सकते हैं बशर्ते चीन हमारी संप्रभुता और अखंडता से टकराव वाले मुद्दों पर और संवेदनशीलता दिखाए."

उन्होंने कहा कि चीन के साथ सीमा विवाद को हल करने के लिए कोशिश हो रही है.

निरुपमा राव ने कहा कि इस मुद्दे पर चल रही मौजूदा बातचीत एक निष्पक्ष और एक-दूसरे को स्वीकार्य हल के प्रति गंभीर कोशिश है.

एक सवाल के जवाब में निरुपमा राव ने स्पष्ट किया कि अमरीका की तरह चीन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता का खुल कर समर्थन नहीं किया है.

संबंधित समाचार