विश्व कप का उदघाटन

बीबीसी हिंदी की विशेष लाइव कमेंटरी. बीबीसी हिंदी की विशेष लाइव कमेंटरी.
यह अपने आप अपडेट होता रहेगा.

ताज़ा पेज देखें

इसी के साथ आतिशबाज़ी का दौर शुरू और विश्व कप उदघाटन समारोह संपन्न हुआ.

शंकर, अहसान और लॉय के दे घुमा के.....गाने ने ख़ूब रंग बिखेरा. तालियों की गड़गड़ाहट के बीच तीनों ने गाना ख़त्म किया.

बंग बंधु स्टेडियम रोशनी से जगमग है और जम कर आतिशबाज़ी हो रही है.

भारतीय, श्रीलंकाई और बांग्लादेशी कलाकारों के बाद बारी आई ब्रायन एडम्स की.

बांग्लादेशी कलाकारों ने भी अपनी शानदार प्रस्तुति से ख़ूब तालियाँ बटोरीं.

रूना लैला ने दमादम मस्त कलंदर गाना गाकर लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया.

श्रीलंकाई कलाकारों ने भी अपनी ख़ूबसूरत प्रस्तुति से वहाँ मौजूद लोगों का दिल जीत लिया.

भारतीय कलाकारों की प्रस्तुति में हिंदी फ़िल्मों की भरमार है. रंग दे बसंती के गाने पर भारतीय कलाकार ख़ूब झूमे.

अब शुरू हुआ है सांस्कृतिक कार्यक्रमों का दौर, जिनमें भारत, बांग्लादेश और श्रीलंका के कलाकार हिस्सा ले रहे हैं.

.....और विश्व का औपचारिक उदघाटन हुआ. शेख़ हसीना ने प्रतियोगिता शुरू करने की घोषणा की.

शरद पवार ने तीनों मेज़बान देशों के राष्ट्राध्यक्षों के अलावा क्रिकेट बोर्डों के प्रमुखों को भी धन्यवाद दिया और अंत में बांग्लादेश ज़िंदाबाद कहा.

आईसीसी के अध्यक्ष शरद पवार ने सबका धन्यवाद किया और प्रतियोगिता के सफल होने की उम्मीद जताई.

बांग्लादेश के वित्त मंत्री और आयोजन समिति के प्रमुख ने भी लोगों का स्वागत किया और उम्मीद जताई कि ये प्रतियोगिता लोगों में उत्साह भरेगी.

बांग्लादेश के खेल मंत्री ने अपने भाषण में ये उम्मीद जताई कि बांग्लादेश में ये आयोजन सफल साबित होगा.

बांग्लादेश क्रिकेट  बोर्ड के प्रमुख ने वहाँ मौजूद लोगों का स्वागत किया. पूरा स्टेडियम खचाखच भरा हुआ है.

भारत के चर्चित गायक सोनू निगम ने कुछ देर पहले अपने गाने से सबका मन मोह लिया.

विश्व कप 2011 में हिस्सा ले रहे सभी देशों के राष्ट्रीय ध्वज बंग बंधु स्टेडियम में लहरा रहे हैं.

सबसे ज़्यादा तालियाँ उस समय बज़ीं, जब बांग्लादेश के कप्तान साकिब अल हसन रिक्शा से मैदान पर पहुँचे.

भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को भी जम कर तालियाँ मिलीं.

उदघाटन समारोह में सभी टीमों के कप्तान रिक्शा से मैदान पर पहुँचे. सबसे पहले मैदान पर आने वाले थे ऑस्ट्रेलिया के कप्तान रिकी पोंटिंग. जबकि सबसे आख़िर में मेज़बानी कर रहे देशों के कप्तान आए.

इस विश्व कप में हिस्सा लेने वाली सभी 14 टीमों के कप्तान इस उदघाटन समारोह में मौजूद हैं.

बंग बंधु स्टेडियम में जैसे ही इस विश्व कप के मैस्कट स्टम्पी की एंट्री हुई, पूरा स्टेडियम तालियों से गूँज उठा.

थोड़ी देर पहले शुरू हुए उदघाटन समारोह में दर्शकों को मधुर बांग्ला गाने सुनने को मिल रहे हैं.

इस बार फ़ाइनल मैच भारत को मिला है और फ़ाइनल मुंबई में खेला जाएगा.

इस विश्व कप के स्वरूप में थोड़ा बदलाव किया गया है. इस बार सिर्फ़ दो ग्रुप हैं और लीग मैचों के बाद सीधे क्वार्टर फ़ाइनल खेला जाएगा.

और मैं हूँ आपके साथ पंकज प्रियदर्शी.

इस मौक़े पर बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख़ हसीना और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के अध्यक्ष शरद पवार भी मौजूद हैं.

बांग्लादेश की राजधानी ढाका का ऐतिहासिक बंग बंधु स्टेडियम रोशनी से जगमग है और बांग्लादेश के राष्ट्रगीत के साथ उदघाटन समारोह शुरू हो गया है.

19 फरवरी को पहला मैच खेला जाएगा जबकि फ़ाइनल मैच 2 अप्रैल को मुंबई में होगा.

इस बार भारत के साथ-साथ श्रीलंका और बांग्लादेश भी मेज़बानी कर रहे हैं.

भारत तीसरी बार विश्व कप की मेज़बानी कर रहा है. वर्ष 1987 में भारत और पाकिस्तान ने मेज़बानी की थी. 1996 में उसने पाकिस्तान और श्रीलंका के साथ मिलकर मेज़बानी की.

उदघाटन समारोह के लिए ढाका के ऐतिहासिक बंग बंधु स्टेडियम में ख़ूब तैयारी की गई है. ढाका को भी ख़ूब सजाया गया है.

भारत, पाकिस्तान और श्रीलंका ने एक-एक बार विश्व कप का ख़िताब जीता है. भारत ने 1983 में, पाकिस्तान ने 1992 में और श्रीलंका ने 1996 में विश्व कप जीता था.

विश्व कप क्रिकेट का ख़िताब सबसे ज़्यादा चार बार ऑस्ट्रेलिया ने जीता है. जबकि वेस्टइंडीज़ ने दो बार ख़िताब पर कब्ज़ा किया है.

इस विश्व कप में 14 टीमें हिस्सा ले रही हैं और सात-सात टीमों को दो ग्रुपों में बाँटा गया है.  दोनों ग्रुपों से चार-चार टीमें क्वार्टर फ़ाइनल के लिए क्वीलाफ़ाई करेंगी.

लेकिन विश्व कप मैच 19 फरवरी से शुरू होंगे. पहला मैच भारत और बांग्लादेश के बीच मीरपुर में खेला जाएगा.

विश्व कप 2011 का उदघाटन समारोह कुछ ही देर में बांग्लादेश की राजधानी ढाका में शुरू होने वाला है.

विश्व कप की मेज़बानी इस बार भारत, श्रीलंका और बांग्लादेश को मिली हुई है.

पहले मेज़बान देशों में पाकिस्तान भी शामिल था, लेकिन सुरक्षा कारणों से आईसीसी ने वहाँ विश्व कप के मैच न कराने का फ़ैसला किया.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.