जेपीसी पर कांग्रेस-भाजपा में राजनीति

जेपीसी इमेज कॉपीरइट AP

कांग्रेस नेता अभिषेक सिंघवी के ख़ुद को 2जी स्पैक्ट्रम पर गठित संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) से अलग किए जाने के बाद कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी के नेता यशवंत सिन्हा और जसवंत सिंह के समिति में बने रहने पर निशाना साधा है.

अभिषेक मनु सिंघवी ने मीडिया से बातचीत में कहा, ''मैंने टेलीकॉम कंपनियों की तरफ़ से कई मामले लड़े हैं इसलिए मैं जेपीसी से इस्तीफ़ा देता हूं.'' जेपीसी में सिंघवी की जगह कांग्रेस प्रवक्ता जयंती नटराजन ने ली है, उनका कहना था कि हमने अभी तक इस पर कोई आधिकारिक नजरिया नहीं रखा है.

प्रत्येक पार्टी जेपीसी में अपने सदस्यों को नामित करती है.

नियमों के मुताबिक राज्यसभा सभापति और लोकसभा अध्यक्ष भी ऐसे सदस्यों को नहीं हटा सकते जिनके ख़िलाफ़ आपत्ति उठ रही हो.

किसी सदस्य के इस्तीफ़ा देने या किसी का निधन होने पर ही नए सदस्य को शामिल करने का प्रस्ताव पेश किया जाता है.

लेकिन भारतीय जनता पार्टी ने उल्टे कांग्रेस पर निशाना साधा है. भाजपा नेता शाहनवाज़ हुसैन ने प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि कांग्रेस डर गई है इसलिए ऐसी बातें कर रही है.

जेपीसी गठित

ग़ौरतलब है कि मंगलवार को राज्यसभा में कपिल सिब्बल ने राज्यसभा में ये प्रस्ताव रखा था.

इस संबंध में प्रस्ताव पेश करते हुए सिब्बल ने कहा कि 30 सदस्यीय जेपीसी वर्ष 1998 से 2009 की अवधि के दौरान दूरसंचार लाइसेंसों और स्पेक्ट्रम आवंटन में यदि कोई अनियमितता बरती गई तो उसकी जांच करेगी.

समिति में कांग्रेस के लोक सभा सदस्यों में पीसी चाको, मनीष तिवारी, जयप्रकाश अग्रवाल, अधीर रंजन चौधरी, वी किशोरचंद्र देव, दीपेंद्र सिंह हुड्डा, निर्मल खत्री और प्रबण सिंह घाटोवर शामिल हैं.

जेपीसी में भाजपा के लोक सभा सदस्य जसवंत सिंह, यशवंत सिन्हा, हरीन पाठक और गोपीनाथ मुंडे शामिल हैं.

लोक सभा से अन्य सदस्यों में डीएमके के टीआर बालू, तृणमूल कांग्रेस के कल्याण बनर्जी, जनता दल (यू) के शरद यादव, बसपा के दारा सिंह चौहान, समाजवादी पार्टी के अखिलेश यादव, सीपीआई के गुरुदास दासगुप्ता, बीजू जनता दल के अर्जुन चरण सेठी और एआईएडीएमके के एम थम्बी दुरई हैं.

इस समिति में राज्यसभा से कांग्रेस के पीजे कुरियन, जयंती नटराजन और प्रवीण राष्ट्रपाल,डीएमके के तिरुचि सिवा, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के योगेन्द्र त्रिवेदी, भारतीय जनता पार्टी के एसएस अहलूवालिया और रविशंकर प्रसाद, जनता दल (यू) के रामचंद्र प्रसाद सिंह, बहुजन समाज पार्टी के सतीश चंद्र मिश्रा, सीपीएम के सीताराम येचुरी शामिल होंगे.

लोक सभा अध्यक्ष मीरा कुमार इन सदस्यों में से किसी एक सदस्य को समिति का अध्यक्ष मनोनीत करेंगी.

संबंधित समाचार