महिला दिवस पर महिलाओं की उड़ान

इमेज कॉपीरइट iwd
Image caption एयर इंडिया ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस एक अनूठा ढंग से मनाने का फ़ैसला किया है

भारत की सरकारी विमान सेवा एयर इंडिया ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर मंगलवार, आठ मार्च को एक अनूठे ढंग के मनाने का फ़ैसला किया है.

एयर इंडिया ने कई उड़ानों को केवल महिला चालक दलों के सुपुर्द किया है और 15 घंटे की एक अंतरराष्ट्रीय उड़ान को सिर्फ़ महिला कर्मचारियों के ज़रिए ही चलाने का फ़ैसला किया है.

समाचार एजेंसियों के अनुसार नई दिल्ली से कनाडा के टोरोंटो के लिए जाने वाली एयर इंडिया की उड़ान में चालक दल की सभी सदस्य सिर्फ़ महिलाएँ ही होंगी.

इतना ही नहीं, इस उड़ान के दौरान सामान लादने, विमान का निरीक्षण करने वाली इंजीनियर, चैक-इन काउंटरों और सुरक्षा सुनिश्चित करने का कार्यभार भी महिलाएँ ही संभालेंगी.

इस विमान उड़ान संख्या एआई-187 पर चालक दल की 11 महिलाएँ सवार होंगी. कैप्टन रश्मि मिरांडा कमांडर होंगी और कैप्टन सुनीता नरूला फ़र्स्ट ऑफ़ीसर.

एयर इंडिया की 157 महिला पायलट्स

एयर इंडिया के एक प्रवक्ता ने कहा कि भारत के भीतर भी अनेक ऐसी विमान उड़ानें चलाई जाएंगी जिनमें सिर्फ़ महिला कर्मचारी ही होंगी. इनमें दिल्ली-पटना, दिल्ली-रायपुर-नागपुर, दिल्ली-लखनऊ, मुंबई-बंगलौर-चेन्नई शामिल होंगी.

एयर इंडिया के पास 157 महिला पायलटों का जत्था है और ये महिला पायलट राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय उड़ानें चलाती हैं. एयर इंडिया में लगभग 5300 महिला कर्मचारी काम करती हैं.

इस बीच नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने ये भी घोषणा की है कि ऐसी महिलाओं को भी सम्मानित किया जाएगा जिन्होंने उड्डयन क्षेत्र में बेहतरीन योगदान दिया है.

इनमें उल्लेखनीय कुशलता की पायलट श्रेणी में दिवंगत कैप्टन प्रेम माथुर का नाम है. प्रेम माथुर ऐसी पहली महिला थीं जिन्होंने व्यावसायिक उड़ान का लाइसेंस हासिल किया था.

कैप्टन दुर्बा बैनर्जी को सम्मानित किया जाएगा जो किसी एयरलाइन में कमांडर बनने वाली पहली महिला हैं. चंदा बुधभट्टी को पायनीयर पॉयलट होने और भारतीय महिला पायलट एसोसिएशन का गठन करने के लिए सम्मानित किया जाएगा.

संबंधित समाचार