द्रमुक और कांग्रेस में समझौता

एम. करुणानिधि
Image caption द्रमुक और कांग्रेस के बीच सीटों के बंटवारे को लेकर चल रहा गतिरोध समाप्त हो गया है.

तमिलनाडु विधानसभा चुनावों के लिए सीटों के बंटवारे पर कांग्रेस और द्रविड़ मुनैत्र कड़गम यानि द्रमुक के बीच चल रहा गतिरोध समाप्त हो गया है.

दोनों दलों के बीच चल रही खींचतान की समाप्ति की घोषणा मंगलवार को दिल्ली में कांग्रेस नेता और तमिलनाडु के प्रभारी गुलाम नबी आजा़द की.

आज़ाद ने कहा, "दोनो दल कितनी-कितनी सीटों पर चुनाव लड़ेंगे इसका फ़ैसला हो चुका है. कांग्रेस तमिलनाडु विधानसभा में 63 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. अब ये गठबंधन मिलजुल कर काम करेगा. हम ये पक्का करेंगे कि गठबंधन एक बार फिर सत्ता में आए."

खींचतान

द्रमुक ने तमिलनाडु विधानसभा चुनावों में टिकट के बंटवारे पर केंद्र सरकार से मंत्रियों को हटाने और मुद्दों पर आधारित समर्थन देने की बात कही थी और इस पर कड़ा रुख अपना लिया था.

हालांकि बाद में द्रमुक के प्रमुख करुणानिधि ने यह भी कहा कि कांग्रेस के साथ मुद्दा सिर्फ़ विधानसभा चुनावों की सीट नहीं बल्कि और बातें भी हैं.

सोमवार देर शाम को सोनिया गांधी ने द्रमुक नेताओं से मुलाक़ात की जिससे संभावनाएं जगी थीं कि दोनों दलों के बीच एक बार फिर समझौता हो सकता है और पार्टी शायद केंद्र से समर्थन वापसी का फ़ैसला न करे.

और मंगलवार शाम होते-होते दोनों दलों में समझौता हो गया.

संबंधित समाचार