'तेलंगाना मिलियन मार्च रोकने के लिए हैदराबाद एक जेल में परिवर्तित'

तेलंगाना मिलियन मार्च इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption अलग तेलंगाना राज्य की मांग के लिए मिलियन मार्च को देखते हुए पुलिस ने सुरक्षा के कड़े इंतज़ाम किए हैं.

अलग तेलंगाना राज्य की मांग मनवाने के लिए तेलंगाना वादी संगठनों ने गुरुवार को हैदराबाद में जिस मिलयन मार्च का आह्वान किया है उसे रोकने के लिए प्रशासन और पुलिस ने बड़े पैमाने पर कार्रवाई करते हुए हैदराबाद को तेलंगाना के अन्य भागों से बिल्कुल काट कर रख दिया है.

हैदराबाद नगर तनाव की चपेट मैं है. हज़ारो पुलिसकर्मी और अर्धसैनिक बलों के जवान सड़कों पर गश्त कर रहे हैं.

बाधाएं लगाकर और कांटेदार तार बिछाकर नगर के कई मख्य मार्गों को सुबह से ही बंद कर दिया गया है.

नगर के कई इलाक़ों में कर्फ़्यू जैसे हालात पैदा हो गए हैं .

आम जीवन प्रभावित

राज्य विधान सभा के आसपास दो किलो मीटर के इलाक़े में किसी को जाने नहीं दिया जा रहा है.

नगर में आम जीवन ठप्प होकर रह गया है क्योंकि कई सड़कों पर यातायात बंद कर दिया गया है.

हुसैन सागर झील पर बने पुश्ते को भी बंद कर दिया गया है क्योंकि इसी जगह पर तेलंगाना वादी लाखों की संख्या में इकठ्ठा होकर विरोध प्रदर्शन करने वाले थे.

तनाव को देखते हुए स्कूल और कॉलेजों ने छुट्टी की घोषणा कर दी है.

तेलंगाना के दस ज़िलों से लाखों लोगों के हैदराबाद पहुंचने की आशंका को देखते हुए हैदराबाद की तरफ़ आने वाले तमाम रास्ते भी बंद कर दिए गए हैं.

जो बसें आ रही हैं उन्हें भी बस अड्डों से दूर अलग अलग स्थानों पर रोका जा रहा है.

रेलवे ने भी 33 ट्रेनों को रद्द कर दिया है.

'लाख़ों हिरासत में'

मिलयन मार्च का आह्वान करने वाली संगठन तेलंगाना संयुक्त संघर्ष समिति ने आरोप लगाया है की एक लाख से ज्यादा लोगों को हिरासत में ले लिया गया है.

खम्मम, नलगोंडा, महबूबनगर, करीमनगर, वारंगल, मेदक जैसे क़रीबी ज़िलों में लोगों की पकड़ धकड़ जारी है और हैदराबाद जाने वाले कार्यकर्ताओं को बड़े पैमाने पर गिरफ़्तार किया जा रहा है.

समिति के संयोजक प्रोफ़ेसर कोडंडा राम ने कहा की इस सारी कार्रवाईयों के बावजूद मिलयन मार्च अपने समय पर शुरू होगा और लोग इसमें भाग लेंगे.

तेलंगाना राष्ट्र समिति के विधायक दल के नेता ई राजेंद्र ने कहा कि तेलंगाना के लोगों ने अपनी पहली विजय प्राप्त कर ली है. उन्होंने कहा की राज्य में इमरजेंसी लागू है और सरकार तेलंगाना की जनता की आकांक्षा और आज़ादी को कुचलने की नाकाम कोशिश कर रही है.

उन्होंने कहा कि सभी राजनैतिक दलों के तेलंगाना विधायक जुलूस निकालेंगे और कार्यक्रम में भाग लेंगे.

मिलयन मार्च शाम पांच बजे सामूहिक शपथ के साथ ख़त्म होगा. प्रोफ़ेसर कोडंडा राम ने कहा कि लोग चाहे जहाँ भी रहें, वे ये शपथ लेंगे की वे अपनी लड़ाई तेलंगाना राज्य की स्थापना तक जारी रखेंगे.